बिजली कर्मी की मौत के बाद शिवपाल सिंह यादव ने किया बड़ा ऐलान, इनसे फोन पर की बात

Abhishek Gupta

Updated: 17 Sep 2019, 11:31:16 PM (IST)

Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

इटावा. इटावा जिले के सैफई थाना इलाके के हेंवरा डिग्री कालेज फीडर पर करंट लगने से मौत के शिकार हुए संविदा बिजली कर्मी को मदद की मांग को लेकर बिजलीकर्मियों ने एसडीएम के सामने तहसील दिवस में जमकर हंगामा काटा। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार तीन दिन पहले काम करते समय करंट लगने से घायल लाइनमैन जयचन्द (45) पुत्र मुलायम सिंह निवासी बिहारी थाना सैफई की मेडिकल यूनिवर्सिटी में ईलाज के दौरान मौत के बाद आज उसके साथियों ने जसवंतनगर, सैफई और ताखा तहसीलों की बिजली काटकर तहसील दिवस में मुआवजे की मांग को लेकर हंगामा करके अफरातफरी मचा दी।

आर्थिक मदद व नौकरी की उठाई मांग-

बाद में विद्युत विभाग के ठेकेदार से पांच लाख की आर्थिक मदद दिलाने के साथ ही विभागीय सहायता दिये जाने के भरोसे के बाद लाइनमैन के साथी और परिजन माने। कई घंटे बिजली गुल रखने से इलाके में अफरा तफरी मच गई। इतना ही नहीं संविदा कर्मियों ने तहसील दिवस में घुस कर हंगामा किया। इसके बाद इन कर्मियों नेे वकील यदुवीर सिंह के साथ उपजिलाधिकारी को 10 बिंदुओं पर ज्ञापन दिया। जिसमे मांग की गई परिवार को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाए जिससे मृतक की तीन बेटियों की शादी का इंतेजाम हो सके। साथ ही परिवार में एक सदस्य को नौकरी दी जाए।

शिवपाल ने जाना मामला-

करीब दो बजे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव तहसील दिवस में पहुंचे। उन्होंने परिजनों से वार्ता कर घटना के बारे में जानकारी की। विद्युत विभाग के समस्त संविदा कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि बिजली विभाग दिन और रात कार्य कराता है और कोई घटना हो जाती है तो यह लोग दूर हो जाते हैं। अभी तक तीन दिन बीतने के बाद विभाग से कोई बड़ा अधिकारी मृतक के परिजनों से नहीं मिला न ही विभाग कोई आर्थिक सहायता दे रहा है।

संविदा कर्मियों ने एफआईआर की मांग की-

उपजिलाधिकारी हेम सिंह ने बताया कि विद्युत विभाग के ठेकेदार द्वारा बीमा की राशि पांच लाख का चेक मंगा लिया गया है जो कि परिवारजनों को सौंपा जाएगा और विभाग व शासन स्तर से जो मदद हो सकेगी वह दी जाएगी। इसके बावजूद भी संविदा कर्मचारी नहीं माने और विरोध प्रदर्शन करते रहें। मृतक का शव पोस्टमार्टम कराने के बाद तहसील में ही रखे हुए थे। कर्मचारियों की मांग थी कि विभाग के अधिशाषी अभियंता के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो।

शिवपाल ने प्रदर्शन कराया खत्म-

शिवपाल सिंह यादव ने तहसील में पहुंचकर संविदा कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन कराया खत्म और मदद का दिया भरोसा। समस्त संविदा कर्मचारियों ने यादव से शिकायत की और कहा कि अफसर आए दिन कर्मचारियों का शोषण करते हैं। 6 महीने तक वेतन नहीं देते हैं और दिन रात कार्य कराते हैं और जब मन आता है तब नौकरी से निकाल देते हैं।

शिवपाल ने डीएम से की बात-

कर्मचारियों की बात सुनकर शिवपाल सिंह यादव ने डीएम इटावा से फोन पर बात की और मृतक के परिवारजनों को सरकार से सहायता दिलाने के लिए कहा। साथ ही एसडीएम सैफई से कहा कि आप खुद यहां देखें कि किसानों के साथ बिजली विभाग के अधिकारियों का कैसे शोषण कर रहे हैं। इनको बंद कराया जाए। बिजली चोरी के फर्जी मुकदमे लगा रहे हैं। पहले खुद चोरी करवाते हैं। बाद में मुकदमा लिखा कर वसूली करते हैं। शिवपाल सिंह ने वहां मौजूद जनता से कहा कि आप लिखित में शिकायत हमें दें। हम इनके खिलाफ कार्रवाई कराएंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned