"शिवपाल" के इलाके मे भी सपाइयों का जोरदार प्रदर्शन

Ashish Kumar Pandey | Publish: Sep, 10 2018 08:56:37 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

महंगाई और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर जताया विरोध।

 

इटावा. समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के नेता शिवपाल सिंह यादव के निर्वाचन क्षेत्र में भी समाजवादी पार्टी जसवंतनगर के तत्वावधान में तेल की कीमतों, शिक्षक भर्ती, बढ़ती महंगाई, महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार, अतिवृष्टि से किसानों की फसलें नष्ट होने के कारण तहसील पर धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया। जिसमें सपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। ऐसा माना जा रहा था कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चे के गठन के बाद जसवंतनगर में समाजवादी पार्टी का नामलेवा नहीं होगा, लेकिन ऐसा नजर नहीं आया। बाद में सपा कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल को सम्बोधित एक ज्ञापन उपजिलाधिकारी जसवंतनगर सत्यप्रकाश मिश्रा को सौंपा।
ज्ञापन में कहा कि तेल की कीमतों में बेहताशा वृद्वि करके खासकर किसानों कारोबारियों सहित आम जनमानस को तबाह करने की साजिश की गई है इसके अलावा प्रदेश सरकार द्वारा छात्रों, युवाओं, शिक्षक भर्ती में की गई बादा खिलाफी, बढ़ती महंगाई आदि के चलते किसान भुखमरी के कगार पर आ गया है।
पेट्रोल, डीजल व रसोई गैस भी लगातार आसमान छू रही है। ऐसे में गरीब तथा मध्यम वर्गीय व्यक्ति खुदको निराश एवं ठगा सा महसूस कर रहा है। छात्रों, युवा, महिला, किसान, व्यापारी आज पुलिस एवं बिजली विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के उत्पीडऩ से त्रस्त हैं। इसके चलते भाजपा पूरी तरह विफल है। कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल से आग्रह किया है कि प्रदेश की भाजपा की साम्प्रदायिक, दलित, किसान, बुनकर एवं मध्यम वर्गी व्यापारी विरोधी तथा बदले की भावना से प्रेरित होकर कार्य करने वाली भाजपा सरकार द्वारा बढ़ाई गई पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की दरों को वापस किये जाने हेतु प्रभावी कार्यवाही करने के साथ ही कानून व्यवस्था पर नियंत्रण करने में असफल प्रदेश सरकार की अविलम्व बर्खास्त कर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करती है। पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों और महंगाई पर विपक्ष ने सोमवार को भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला। सपा कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस सरकार को सत्ता में बने रहने का काई अधिकार नहीं है। जब से भाजपा की सरकार बनी है लोग परेशान हो गए है। इस सरकार में गरीबों की कोई सुनने वाला नहीं है। बेरोजगारी बढ़ती जा रही है।

इस दौरान कार्यकर्ताओं में विश्राम सिंह यादव, नीरज यादव, अनवर सिंह, बृजेश कुमार यादव, विद्याराम यादव, रसीद जफर, मुलायम सिंह यादव, रामबाबू प्रधान, सनी यादव, सुनील यादव, रूवेश यादव, विवके, अनुरूद्व यादव आदि मौजूद थे।

Ad Block is Banned