scriptStudents pursuing MBBS in Ukraine appealed to former CM Akhilesh Yadav | यूक्रेन में MBBS करने स्टूडेंट्स ने पूर्व CM अखिलेश यादव से लगाई गुहार, हमारा करियर.. | Patrika News

यूक्रेन में MBBS करने स्टूडेंट्स ने पूर्व CM अखिलेश यादव से लगाई गुहार, हमारा करियर..

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज सैफई में युद्धग्रस्त यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाले छात्रों छात्राओं ने मुलाकात करके गुहार लगाई ।

इटावा

Updated: April 21, 2022 07:16:01 pm

अखिलेश यादव ने कहा कि युद्धग्रस्त यूक्रेन से मेडिकल की पढ़ाई बीच में छोड़कर आए हुए स्टूडेंट्स की इस मॉग को सरकार तुरंत माने कि उन्हें यहॉ के मेडिकल कालेज में प्रैक्टिकल क्लासेज़ करने की अनुमति दी जाए, बाक़ी पढ़ाई वे आनलाइन कर लेंगे। उन्होंने कहा कि 40 मेडिकल कॉलेज का दावा करनेवाले, युवाओं के भविष्य की रक्षा करें।
Akhilesh Yadav Met with Ukraine Medical student
Akhilesh Yadav Met with Ukraine Medical student

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलने वाले एमबीबीएस छात्र छात्राओं ने यह मांग रखी कि उनकी पढ़ाई युद्ध ग्रस्त यूक्रेन में अवरुद्ध हो गई है जिसको पूरी कराने के लिए केंद्र सरकार पहल करें करें इस पहल में आप अपने स्तर पर भूमिका अदा करें। इससे पहले इन सभी छात्र छात्राओं ने इटावा के जिलाधिकारी से भी मुलाकात करके अपनी बात रखी थी।
मेडिकल कालेज में मिले एडमिशन
सभी मेडिकल छात्र छात्राओं ने पूर्व सीएम से मांग करते हुए कहा कि उनकी अधूरी पढ़ाई यूपी के किसी भी मेडिकल इंस्टिट्यूट में पूरी करवाई जाए, जिससे उनका भविष्य खराब होने से बच सके. छात्रों ने कहा कि उनकी यूक्रेन की यूनिवर्सिटी में बात हो रही है, लेकिन वहां के हालात ठीक नहीं है. खराब हालात के बीच वे लोग भी यूक्रेन जाना नहीं चाहते हैं ।
रूस और यूक्रेन की जंग में भारतीय छात्र-छात्राओं को उनका भविष्य अंधकार में दिखने लगा है । भले ही वह युद्ध क्षेत्र से निकलकर अपने घर सुरक्षित लौट आए है, लेकिन अब उन्हें भविष्य की चिंता सता रही है।
उन्होंने कहा कि उनकी पढ़ाई की व्यवस्था यूपी के ही किसी कालेज में कराई जाए, जिससे उनकी अधूरी पढ़ाई पूरी हो सके। यूक्रेन से लौटी छात्रा तेजस्विता यादव का कहना है कि सभी छात्र घर वापस तो आ गए लेकिन उनकी उम्मीदें अधूरी रह गई हैं । उन्होंने कहा कि अगर वह देश में ही दोबारा पढ़ाई शुरू करते हैं तो उनका पैसा और साल दोनों ही बर्बाद होंगे इसलिए सरकार उनकी मांग पर सुनवाई करते हुए उनका भविष्य अंधकारमय होने से बचा ले ।
इटावा की कोमल यूक्रेन में
कोमल सिंह नाम की छात्रा का कहना है कि वब यूक्रेन में एमबीबीएस के पहले साल की छात्रा थी । वह बहुत ही उम्मीद से यूक्रेन पढ़ाई के लिए गई थीं, लेकिन वहां के हालात अचानक खराब हो गए । इस वजह से उन्हें अपनी जान बचाकर घर लौटना पड़ा । इस वजह से उनके सामने बड़ी समस्या खड़ी हो गई है । उन्होंने कहा कि आगे की पढ़ाई के लिए देश की ही किसी मेडिकल यूनिवर्सिटी में व्यवस्था की जाए, जिससे उनका भविष्य बर्बाद होने से बच सके। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने यूक्रेन से लौटे सभी एमबीबीएस छात्र छात्राओं की बात को सुनने के बाद इस बात का भरोसा दिया है कि वह उनकी बात को राज्य और केंद्र सरकार के समक्ष रख कर के उनकी समस्या का हल निकालने में मदद करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्डIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाबिहार की सीमा जैसा ही कश्मीर के परवेज का हाल, रोज एक पैर पर कूदते हुए 2 किमी चलकर पहुंचता है स्कूलकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहाOla, Uber, Zomato, Swiggy में काम करके की पढ़ाई, अब आईटी कंपनी में बना सॉफ्टवेयर इंजीनियरपंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.