टीचर रोईं तो उनके साथ फूटकर रो पड़े सारे बच्चे, प्रधानाध्यापिका से हैं परेशान, प्राइमरी स्कूल के वायरल वीडियो ने सबको रुलाया

टीचर रोईं तो उनके साथ फूटकर रो पड़े सारे बच्चे, प्रधानाध्यापिका से हैं परेशान, प्राइमरी स्कूल के वायरल वीडियो ने सबको रुलाया

Nitin Srivastva | Publish: Sep, 09 2018 01:25:35 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

आए दिन टीचरों और छात्र-छात्राओं को आंसू बहाना पड़ता है...

इटावा. उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के अमतपुर कृपालपुर गांव स्थित मॉडल स्कूल में प्रधानाध्यापिका नीलम सेंगर की तानाशाही नजर आ रही है। वायरल हुए वीडियों मे टीचर और स्कूल के बच्चे रोते हुए दिख रहे हैं। वीडियो में सभी सहमे दिख रहे हैं।

 

फूट-फूटकर रोए टीचर और बच्चे

ऐसा आरोप है कि इस स्कूल की प्रधानाध्यापिका टीचरों से अभद्र व्यवहार करती हैं। जिस कारण आए दिन टीचरों और छात्र-छात्राओं को आंसू बहाना पड़ता है। जिससे आए दिन छात्रों को पढ़ाई से वंचित भी होना पड़ता है। इन लोगों का कहना है कि स्कूल की प्रधानाध्यापिका कहती हैं कि उनकी शिक्षा अधिकारियों से अच्छी जान पहचान है इसलिए कोई उनका कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता। जानकारी के मुताबिक वह इससे पहले की पोस्टिंग में भी हिटलर शाही दिखाती थीं।

 

 

 

स्कूल की व्यवस्था प्रभावित

माडर्न इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल में शिक्षिकाओं में जारी रार से शिक्षण कार्य और मिड-डे मील बुरी तरह प्रभावित हो गया है। इससे स्कूल की साख भी प्रभावित हो रही है। प्रधानाध्यापिका की शिक्षिकाओं से तकरार होने पर शिक्षा समिति अध्यक्ष एवं ग्राम प्रधान वेदपाल ने भी गंभीर आरोप लगाए हैं। इटावा जिले के बसरेहर ब्लाक के ग्राम कृपालपुर में स्थित जिले में आदर्श प्राथमिक विद्यालय के रूप में स्थापित हो गया था। कॉन्वेंट स्कूल की तरह ग्रामीण बच्चों को शिक्षा मिलने लगी थी। लेकिन बीते महीने से स्कूल में शिक्षिकाओं की कलह से सभी व्यवस्थाएं प्रभावित हो गई हैं।

 

बच्चों पर पड़ रहा असर

ग्राम प्रधान वेदपाल ने बताया कि प्रधानाध्यापिका अक्सर शिक्षिका नम्रता श्रीवास्तव और प्रतिभा को किसी न किसी बात पर बच्चों के सामने ही अशोभनीय भाषा में प्रताड़ित करती हैं। जिसका असर बच्चों पर पड़ रहा है और बच्चों की पढ़ाई भी चौपट हो रही है। वहीं बच्चों के मिड-डे-मील के नाम पर महज खानापूर्ति की जा रही है। 260 बच्चों को नाम मात्र के लिए प्रसाद की तरह भोजन बांटा जा रहा है। बच्चों के पंजीयन में निरंतर कमी हो रही है जो लोग बच्चों को स्कूल भर्ती कराने के लिए आते हैं, उनको भी अपमानित किया जा रहा है।


मामले की होगी जांच

ग्राम प्रधान वेदपाल ने जिलाधिकारी से अनुरोध किया है कि बेसिक शिक्षा विभाग के अलावा अन्य किसी विभाग के वरिष्ठ अधिकारी से जांच कराकर शिक्षण कार्य को फिर से बेहतर बनाया जाए और कार्य प्रभावित करने वाली प्रधानाध्यापिका के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। वहीं इस मामले पर बसरेहर विकास खंड शिक्षा अधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी और उच्च अधिकारियो के निर्देशो के क्रम में कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Ad Block is Banned