यूपी रोडवेज चालक ने ईमानदारी की पेश की मिसाल, पंजाबी महिला को पहुंचाया उसका पर्स, कहा- पुलिस पर नहीं था भरोसा

यूपी रोडवेज चालक ने ईमानदारी की पेश की मिसाल, पंजाबी महिला को पहुंचाया उसका पर्स, कहा- पुलिस पर नहीं था भरोसा

Abhishek Gupta | Publish: Nov, 08 2018 07:30:46 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

उत्तर प्रदेश रोडवेज विभाग में तैनात एक संविदा चालक की ईनामदारी सामने आने के बाद हर कोई उसकी चर्चा करने में लग गया है।

इटावा. उत्तर प्रदेश रोडवेज विभाग में तैनात एक संविदा चालक की ईनामदारी सामने आने के बाद हर कोई उसकी चर्चा करने में लग गया है। राहुल कुमार का यह रोडवेज चालक इटावा डिपो में तैनात है। इटावा रोडवेज डिपो के क्षेत्रीय प्रबंधक अशोक कुमार झा ने आज यहॉ बताया कि बस नंबर यूपी 75 एम 4226 के बस संविदा चालक राहुल कुमार को पांच नवंबर को एक बैग बस में मिला था जिसको आज उस महिला को सुपुर्द कर दिया गया। वह वास्तव में उसका था। उस बैग में महिला के मोबाइल फोन के अलावा कुछ पैसे, जेवर व अन्य दस्तावेज थे। महिला सरिता पंजाब से आज दोपहर अपना बैग लेने के लिए आई थी, जहॉ पर कई रोडवेज कर्मियों की मौजूदगी में महिला को बैग सुपुर्द कर दिया गया।

इस रोडवेज चालक राहुल कुमार को आगरा से लौटते समय रोडवेज बस में धनतेरस के दिन एक बैग मिला जिसको उसने ईमानदारी का परिचय देते हुए असल मालिक तक पहुंचाने का मन बना लिया। पांच नबंवर को धनतेरस वाले दिन मिले इस बैग को असल मालिक तक पहुंचाने के क्रम में राडेवेज चालक राहुल कुमार ने बैग में मिले मोबाइल नंबर के आधार पर संपर्क स्थापित किया, तो पता चला वह नंबर उस महिला के भाई का है, जिसका बैग उसको मिला हुआ है। राहुल के बताये आधार पर महिला के भाई ने अपनी बहन को बैग के बारे में बताया। फिर महिला ने राहुल से संपर्क स्थापित किया और महिला बैग लेने के लिए इटावा तक आयी। महिला बैग को पाकर काफी खुश हुई और रोडवेज चालक राहुल की ईमानदारी की दुहाई देते हुए हर किसी को राहुल की ही तरह ईमानदार होने पर धन्यवाद देने लगी।

पुलिस ने नहीं की मदद-

इस महिला का नाम सरिता देवी है, जो अपने पति रविकांत के साथ पंजाब के कोटकपुर से यहॉ तक बैग लेने के लिए आई हुई है। धनतेरस वाले दिन यह महिला औरैया से पंजाब जा रही थी, तभी उसका पर्स रोडवेज की बस में टंगा हुआ आगरा में छूट गया, जिसके चलते महिला व उसके पति ने काफी प्रयास किए, लेकिन जब उसका पर्स कहीं नहीं मिला तो उसने आगरा पुलिस स्टेशन पर जाकर गुहार लगाई, लेकिन आगरा पुलिस ने उसकी एक ना सुनी और उसको भगा दिया।

फिर चालक ने किया कॉल-
पुलिस की डांट से निराश हो महिला अपने घर पंजाब चली गई। धनतेरस से लेकर दीपावली के दिन रोडवेज के चालक राहुल कुमार ने बस में पड़े मोबाइल को जांचा तो एक नंबर उसके भाई का निकला। उस पर फोन लगाकर राहुल ने बताया कि एक पर्स मेरी बस में टंगा हुआ मिला है, जिसमें आप का नंबर मिला है। उसमें साढे तीन सौ रुपए, मोबाइल, चांदी की तोड़िया, सोने के कुंडल थे।

महिला ने दिया राहुल को आशीर्वाद-

चालक राहुल की इस सूचना पर महिला सरिता अपने पति रविकांत के साथ इटावा रोडवेज बस स्टैंड आज दोपहर पहुंची, जहॉ पर राहुल ने सरिता को उसका बैग वापस कर ईमानदारी का परिचय दिया। राहुल की ईमानदारी को देखते हुए महिला बहुत खुश हुई। अपने सामान को वापस पाकर महिला बहुत खुश हुई और आशीर्वाद देते हुए अपने घर वापस पंजाब चली गई ।

चालक को पुलिस पर नहीं था भरोसा-

चालक राहुल से बताया कि रोडवेज बस में पर्स मिलने पर उसने पुलिस ने संपर्क इसलिए नहीं किया क्योंकि वो दो-तीन बार पुलिस और अपने रोडवेज विभाग में सामान को जमा करा चुका है, लेकिन जिसका सामान होता था, उस तक आज तक नहीं पहुंच पाता। इससे निराश हो उसने निर्णय लिया कि वह खुद मशक्कत करके पर्स को महिला के सुपुर्द करेगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned