भारतीय कलाकार की समलैंगिकता पर आधारित पेंटिंग ने तोड़ा रिकॉर्ड, 22 करोड़ रूपए में हुई नीलाम

  • भारतीय कलाकार की पेंटिंग 'टू मेन इन बनारस' रिकॉर्ड पैसों में हुई नीलाम
  • 1980 के दशक में समकालीन कलाकार भूपेन खाखर ने बनाई थी यह पेंटिंग
  • पेंटिंग में दर्शाया गया है दो पुरुषों के बीच समलैंगिक रिश्ता

By: Shweta Singh

Updated: 11 Jun 2019, 04:20 PM IST

लंदन। भारतीय कलाकार द्वारा बनाई पेंटिंग 'टू मेन इन बनारस' (Two Men in Benaras) ने 32 लाख डॉलर (करीब 22 करोड़ रूपए) में नीलाम होकर नया रिकॉर्ड बनाया है। यह पेंटिंग समकालीन कलाकार भूपेन खाखर ने 1980 के दशक में बनाई थी। बता दें कि यह नीलामी सोमवार को लंदन स्थित सोथबी के ऑक्शन हाऊस में की गई।

पेंटिंग से किया यौन ओरिएंटेशन का खुलासा

इसकी खरीदारी 'कूप्स दे कोइअर : द गाई एंड हेलेन बार्बीअर फैमिली कलेक्शन' ने की। इनके पास 20वीं सदी की भारतीय कला के 29 बेहतरीन कलाकृतियों का संग्रह है। बता दें कि 1986 में मुंबई में 'टू मेन इन बनारस' का अनावरण करने वाले खाखर (1934-2003) पहले ऐसे भारतीय कलाकार थे, जिन्होंने काम के जरिए अपने यौन इच्छाओं के बारे में खुलासा किया था।

सूडान में हिंसा: तनाव के बीच अमरीकी राजदूत करेंगे दौरा, बातचीत से रास्ता निकालने की कोशिश

खाखर भारत के पहले अग्रणी समलैंगिक कलाकार

सोथबी की वेबसाइट ने इसके बारे में लिखते हुए कहा कि पेंटिग में कलाकार ने समलैंगिक प्रेम का नवीन आईकोनोग्राफ तैयार किया है। इस पेंटिंग में दो निर्वस्त्र पुरुषों को गले लगते हुए दिखाया गया है। बता दें कि खाखर भारत के पहले अग्रणी समलैंगिक कलाकार थे। सोथबी ने लिखा है कलाकार के सर्वश्रेष्ठ और व्यापाक कार्यों में से एक इस पेंटिंग को टेट मॉडर्न 2016 की प्रदर्शनी 'यू कैन नॉट प्लीज ऑल' में लगाई गई थी। यह इस संस्थान में आयोजित होने वाले भारतीय कलाकार का पहला रेट्रोस्पेक्टिव है।

M F Hussain

राष्ट्रपति हसन रूहानी का अमरीका पर आरोप, ईरान के खिलाफ फैला रहा 'आर्थिक आतंकवाद', EU से की यह मांग

एम.एफ हुसैन की 'मराठी वीमेन' की नीलामी

इस पेंटिंग के अलावा नीलामी में एम.एफ हुसैन (M F Hussain) की 'मराठी वीमेन' (1950) करीब 553,146 डॉलर में और राम कुमार की दुर्लभ पेंटिंग 'अनटाइटल्ड' की बिक्री 659,960 डॉलर में हुई। बता दें कि 'अनटाइटल्ड' पेंटिंग में महिला और पुरुष एक दूसरे का हाथ थामें हैं, इस पेंटिंग को राम कुमार ने 1953 में अपनी पत्नी को तोहफे के तौर पर दी थी। इसके साथ ही रामेश्वरम ब्रूटा की 'एपे' सीरीज की 'एनाटॉमी ऑफ दैट ओल्ड स्टोरी' (1970) 537,887 डॉलर में बिकी। वहीं, सोमवार को हुई अन्य बिक्री में फ्रांसिस न्यूटन सूजा की बेनाम पेंटिंग 15 लाख डॉलर में बिकी।

फिर पाकिस्तान के लिए दिखी चीन की हमदर्दी, कहा- SCO शिखर सम्मेलन में पाक को न बनाएं निशाना

इस वैश्विक नीलामी घर की बिक्री प्रमुख इशरत कांगा ने इस पर बात करते हुए कहा, 'ये असाधारण परिणाम गाय और हेलेन बार्बीयर की अग्रणी विचारधारा के लिए श्रद्धांजलि है, जिन्होंने तब भारतीय कला के असाधारण उदाहरण पेश किए जब कुछ लोग ही इस बारे में सोच ही रहे थे।'

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned