मिर्गी के कारण खोई थी अपनी छोटी बेटी, अब 'टुक टुक टू तुर्की' अभियान से करने जा रहे ऐसे लोगों की मदद

मिर्गी के कारण खोई थी अपनी छोटी बेटी, अब 'टुक टुक टू तुर्की' अभियान से करने जा रहे ऐसे लोगों की मदद

Shweta Singh | Publish: Sep, 02 2018 06:23:03 PM (IST) यूरोप

मिर्गी के कारण अपनी बेटी खोने वाला ये परिवार इसे एक चैरिटी टूर की तरह आयोजित कर रहा है।

लंदन। कहते हैं कि किसी का दर्द वही सबसे अच्छे से समझ सकता है, जो खुद कभी उससे गुजरा हो। ऐसा ही कुछ मामला लंदन से सामने आया है। यहां भारतीय मूल के ब्रिटिश परिवार ने लंदन से इस्तांबुल तक 'टुक टुक टू तुर्की' अभियान चलाने का फैसलाकिया है। मिर्गी के कारण अपनी बेटी खोने वाला ये परिवार इसे एक चैरिटी टूर की तरह आयोजित कर रहा है।

चैरिटी टूर से इकट्ठा किए गए फंड से जरूरतमंद लोगों की होगी मदद

मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि इस चैरिटी टूर से इकट्ठा किए गए फंड से जरूरतमंद लोगों की मदद की जाएगी। रिपोर्ट में मिल रही जानकारी के मुताबिक इस टूर में परिवार के ही चार लोग हिस्सा ले रहें हैं। परिवार में भारत सुमारिया, उनकी पत्नी रैचल, बेटी एमी और उसके प्रेमी जेम्स शामिल हैं।

लगभग 6000 किमी लंबी होगी यात्रा

आपको बता दें कि अगले महीने से भारतीय ऑटोरिक्शा में सवार होकर ये परिवार अपने घर की छोटी बेटी की याद में इस यात्रा पर निकलेगा। उनकी यात्रा लगभग 6000 किमी लंबी होगी। ये परिवार एक गुलाबी रंग के ऑटोरिक्शा में अपना सफर तय करेगा।

टुक टुक टू तुर्की एमीली की मौत के बारे में बात कर अवेरनेस फैलाने का एक तरीका

इस यात्रा के बारे में सुमारिया ने जानकारी देते हुए कहा कि साल 2012 में उनकी सबसे छोटी बेटी एमीली की मिर्गी का दौरा पड़ने के कारण का अचानक मौत हो गई थी। वो उसी की याद में इस चैरिटी टूर का आयोजन कर रहे हैं। अपनी इस पहल के लिए फंड जुटाने वाले पेज पर उन्होंने इस जुड़ी जानकारी साझा की है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि 'टुक टुक टू तुर्की एमीली की मौत के बारे में बात कर अवेरनेस फैलाने और इसे एक सकारात्मक पहलू में परिवर्तित करने का हमारा एक तरीका है।'

ये भी पढ़ें:- पाकिस्तान में गैर-मुस्लिमों के साथ हो रहे भेदभाव का खुलासा, इन कामों के लिए की जाती है नियुक्ति

Ad Block is Banned