50 मरीजों को अधमरा कर फिर से जिंदा कर रहा था सनकी डॉक्टर, इलाज के दौरान 10 की मौत

50 मरीजों को अधमरा कर फिर से जिंदा कर रहा था सनकी डॉक्टर, इलाज के दौरान 10 की मौत

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 17 2019 06:02:39 PM (IST) | Updated: May, 17 2019 07:19:44 PM (IST) यूरोप

  • फ्रांस में सीरियल किलिंग का सनसनीखेज मामला
  • डॉक्टर ने अपनी वाहवाही के लिए किया मरीजों के जीवन के साथ खिलवाड़
  • डॉक्टर पर 20 लोगों को मारने का चल रहा है मुकदमा

पेरिस। फ्रांस के एक सनकी डॉक्टर ने अपनी हीरोगिरी के चक्कर में 20 लोगों की जान ले ली। अपने दोस्तों को इम्प्रेस करने के लिए पहले इस डॉक्टर ने 50 मरीजों को जहर का इंजेक्शन दिया। फिर वह अपनी काबिलियत दिखाने के लिए इन बेहोश मरीजों को होश में आने की कोशिश करने लगा। लेकिन इस चक्कर में 20 लोगों की मौत हो गई। पुलिस ने डॉक्टर को अरेस्ट कर लिया है।

वीजा पॉलिसी में बड़ा बदलाव करने जा रहा है अमरीका, भारतीयों को इस तरह होगा फायदा

सनकी डॉक्टर का अजब कारनामा

डॉक्टर पर आरोप है कि उसने सहकर्मियों के बीच अपनी साख बढ़ाने के लिए मरीजों को जहर दिया और फिर उसने अपना कौशल दिखाने के लिए उका जीवन बचने की कोशिश शुरू कर दी। लेकिन इस क्रम में 20 लोगों की मौत हो गई। अभियोजन पक्ष के अनुसार फ्रांसीसी डॉक्टर को 50 से अधिक रोगियों को जहर देने के संदेह में गिरफ्तार किया गया है। एनेस्थिसियोलॉजिस्ट फ्रेडरिक पेचीयर को 42 गंभीर प्रतिकूल घटनाओं के सिलसिले में हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस ने डॉक्टर को हिरासत में लेने के बाद जब जांच की तो उसके कई ऐसे कारनामों का पता चला। डॉक्टर पर उसकी 17 साल की सेवा के दौरान होने वाली मौतों के सिलसिले में एक और मुकदमा दर्ज किया गया है। एनेस्थिसियोलॉजिस्ट को पहली बार बुधवार को अदालत में पेश किया गया । उसने अपनी सफाई में कहा कि वह निर्दोष है और उसे अपनी प्रतिभा और कौशल के कारण कठिन मामलों में परामर्श के लिए बुलाया जाता था।

फिजी सुप्रीम कोर्ट के नॉन-रेजिडेंट जज होंगे जस्टिस मदन लोकुर, 15 अगस्त को लेंगे शपथ

मौत का सौदागर !

अभियोजकों का दावा है कि डॉक्टर ने बेहोशी का इंजेक्शन देकर रोगियों को सुला दिया। जिसके चलते कई रोगियों को कार्डियक अरेस्ट हुआ, जिससे डॉक्टर को अंतिम समय में उन्हें बचाने का मौका मिला। ऐसा उसने इसलिए किया ताकि उसे अपने साथी डॉक्टरों का सम्मान और पीड़ितों से प्रशंसा मिले। मई 2017 में डॉक्टर के खिलाफ शुरुआती आरोप लगने के बाद उसे "न्यायिक पर्यवेक्षण" के तहत रखा गया था। उन पर 2008 और 2017 के बीच दो अलग-अलग क्लीनिकों में सात मरीजों को जहर देने का आरोप था। जांचकर्ताओं ने कहा कि मृत रोगियों में से दो के रक्त में पोटेशियम का स्तर निर्धारित स्तर से पांच गुना था। कहा जा रहा है कि अगर ज़हरखुरानी के ये मामले साबित होते हैं, तो वह फ्रांस के इतिहास में सबसे बड़े सीरियल किलर में से एक होगा।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned