तुर्की में समलैंगिकता वैध, फिर भी LGBT फिल्म फेस्टिवल पर लगी रोक

तुर्की में समलैंगिकता वैध, फिर भी LGBT फिल्म फेस्टिवल पर लगी रोक

Chandra Prakash Chourasia | Publish: Nov, 26 2017 03:09:25 PM (IST) यूरोप

तुर्की में समलैंगिकता वैध होने के बावजूद इस्तांबुल में जन-सुरक्षा और शांति का हवाला देकर समलैंगिक फिल्म फेस्टिवल पर रोक लगा दी गई है।

इस्तांबुल : तुर्की के इस्तांबुल में जन-सुरक्षा और शांति का हवाला देकर समलैंगिक फिल्म फेस्टिवल पर रोक लगा दी गई है। शनिवार को इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाना था,लेकिन इसके ठीक एक दिन पहले इस पर रोक का आदेश जारी किया। इस कार्यक्रम में एक फिल्म की स्क्रीनिंग, LGBT विषयों पर चर्चा और इंटरव्यू आदि होना था।

जुर्म रोकने के लिए लगा रोक

एक अंग्रेजी अखबार को दिए गए बयान में बेयोग्लू के एक अधिकारी ने कहा, 'लोगों की व्यवस्था व सुरक्षा को बनाए रखने के लिए, सब के अधिकार और स्वंत्रता सुनिश्चित करने के लिए और इस तरह के मामलों से होने वाले जुर्म पर रोक लगाने के लिए इस तरह के कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी जा सकती।'

फिल्म फेस्टिवल से सुरक्षा को खतरा
बता दें कि पिछले हफ्ते तुर्की की राजधानी, अंकारा में भी इस कार्यक्रम को लोगो की 'सुरक्षा पर खतरा' बता कर रद्द करने का आदेश जारी किया था, और उसके बाद पूरे शहर में इस पर बैन लगा दिया गया। उन्होंने आगे कहा था कि वो 'समुदाय की सार्वजनिक संवेदनशीलता' के लिए चिंतित हैं और शहर में 'शांति और सुरक्षा' बनाये रखना चाहते हैं।

कार्यक्रम पर थी हमले की आशंका
अंकारा गवर्नर के कार्यालय से जारी एक बयान में इस कार्यक्रम पर आतंकी हमले की आशंका जताई गई और साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि इस फिल्म का विषय भड़काऊ है। इस पर कई तरह के नकरात्मक प्रतिक्रिया आने की संभावना हैं।

कई बार रद्द हुए LGBT कार्यक्रम
पिछले कई सालों में तुर्की में LGBT कार्यक्रमों पर रोक के कई मामले सामने आए हैं। इस साल ही LGBT प्राइड मार्च को रद्द करने का आदेश दिया गया और जब लोग फिर भी इकट्ठा हुए तो उन पर आंसू गैस के गोले दागे गए।

तुर्की में समलैंगिकता वैध
बता दें कि तुर्की संविधान में हर व्यक्ति के अधिकारों को किसी भी राजनीतिक,आर्थिक और सामाजिक बाधाओं से सुरक्षा दिए जाने का प्रावधान है। 1923 में मॉडर्न तुर्की के गणराज्य स्थापना के बाद समलैंगिकता को वहां कानूनी रूप से वैध किया गया है। ऐसे में इस तरह के रोक वहां के संविधान का उल्लंघन माना जा रहा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned