पेन्नी मोर्डंट ब्रिटेन की पहली महिला रक्षा सचिव बनीं

पेन्नी मोर्डंट ब्रिटेन की पहली महिला रक्षा सचिव बनीं

Anil Kumar | Updated: 03 May 2019, 07:23:38 AM (IST) यूरोप

  • पेन्नी मोर्डंट आर्म्ड फोर्सेस में कार्यरत हैं।
  • 2010 के बाद से पोर्ट्समाउथ उत्तर से सांसद हैं।
  • मोर्डंट का पिता पैराशूट रेजिमेंट में थे।

लंदन। 46 वर्षीय पेन्नी मोर्डंट ( Penny Mordaunt ) यूनाइटेड किंगडम ( United Kingdom ) की पहली महिला रक्षा सचिव ( Defence Secretary ) बन गईं है। दो साल पहले माइकल फालोन को बर्खास्त किए जाने के बाद से अब पेन्नी मोर्डंट को रक्षा सचिव बनाया गया है। यूके के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी महिला को रक्षा सचिव बनाया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि यह एक ऐसी पोस्ट है जो अंतरराष्ट्रीय विकास सचिव के रूप में उसकी पिछली नौकरी की तुलना में उसकी पृष्ठभूमि के लिए अधिक उपयुक्त है। मोर्डंट एक रॉयल नेवी ( Royal Navy ) की एक सदस्य, आर्म्ड फोर्स में की पूर्व मंत्री और पोर्ट्समाउथ से सांसद हैं। साथ ही साथ वह एक उत्साही Brexiter भी हैं, जो अभियान को छोड़ने के लिए वोट करने वाल अग्रणी चेहरों में से एक हैं। मोर्डंट ने प्रीति पटेल की जगह कैबिनेट में शामिल होने के बाद से किसी भी बड़े त्रुटियों से परहेज किया है। उसके ठीक दो हफ्ते बाद गैविन विलियमसन को फॉलन की जगह नियुक्त किया गया।

ब्रिटेन के रक्षा मंत्री विलियमसन बर्खास्त, अहम जानकारी लीक करने का आरोप

आर्म्ड फोर्स से जुड़ा रहा है मोर्डंट का परिवार

बता दें कि पेन्नी मोर्डंट का परिवार पहले से ही आर्म्ड फोर्सेस से जुड़ा रहा है। मोर्डंट के पिता पैराशूट रेजिमेंट में थे, जिसका उन्होंने संसद में अपने पहले भाषण के दौरान उल्लेख किया था। उन्होंने कहा कि सशस्त्र बलों में महिलाओं के लिए काफी चुनौतियां हैं। महिला के तौर पर आर्म्ड फोर्सस में बहुत कठिनाइयों को सामना करना पड़ता है। 2014 में महारानी के भाषण से पहले उन्होंने अपने एक संबोधन में आर्म्ड फोर्सेस में महिलाओं को अधिक से अधिक सशक्त बनाने पर जोर दिया था और उसकी बेहतर ट्रेनिंग की बात कही थी। मोर्डंट महिलाओं और समानता को लेकर काम करने के लिए जानी जाती हैं और एक मंत्री के तौर महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए वह काफी उत्साहित रही हैं। अब आगे भी इसे बरकरार रखेंगी।

 

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned