जूलियन असांजे के खिलाफ फिर से चलेगा रेप केस, स्वीडन की सरकार ने किया ऐलान

जूलियन असांजे के खिलाफ फिर से चलेगा रेप केस, स्वीडन की सरकार ने किया ऐलान

Siddharth Priyadarshi | Publish: May, 13 2019 03:28:34 PM (IST) | Updated: May, 13 2019 06:34:13 PM (IST) यूरोप

  • एक बार फिर मुश्किल में फंसते नजर आ रहे हैं जूलियन असांजे
  • विकीलीक्स के संस्थापक है जूलियन असांजे
  • स्वीडन में कई महिलाओं ने लगाया था रेप का आरोप

स्टॉकहोम। स्वीडिश अभियोजकों ने जूलियन असांजे के खिलाफ बलात्कार का मामला फिर से खोल दिया है। विकीलीक्स के संस्थापक असांजे जो मूल आरोपों से बचने के लिए यूके भाग गए थे, पिछले महीने इक्वाडोर के दूतावास से बाहर निकाले जाने के बाद गिरफ्तार किए गए थे।स्वीडिश अभियोजकों ने सोमवार को कहा कि वे विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे के खिलाफ बलात्कार के आरोप की प्रारंभिक जांच कर रहे हैं।

WTO मंत्री स्तरीय बैठक दिल्ली में शुरू, कम विकसित देशों की समस्याओं पर होगा विचार

बड़ी मुश्किल में जूलियन असांजे

ब्रिटेन स्थित इक्वेडोर एम्बेसी से पिछले महीने निकले जाने के बाद जूलियन असांजे को गिरफ्तार कर लिया गया था। पिछले महीने असांजे को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें जेल में रखा गया है। ब्रिटेन अभी इस बात पर विचार कर रहा है कि उसे स्वीडन या संयुक्त राज्य अमरीका दोनों में से किस देश को प्रत्यर्पित करना है। आपको बता दें कि जहां अमरीका में जहां असांजे पर गोपनीय दस्तावेजों को चुराने के लिए पेंटागन के कंप्यूटरों को हैक करने के आरोपों का सामना कर रहे है। स्वीडिश अभियोजकों ने घोषणा की है कि वे जूलियन असांजे के खिलाफ बलात्कार के आरोप की जांच फिर से खोल रहे हैं। अभियोजकों ने 2017 में इस जांच को छोड़ दिया क्योंकि वे जांच में आगे बढ़ने में असमर्थ थे। इस दौरान असांजे लंदन में इक्वाडोर के दूतावास में बने रहे। उन्होंने कहा गया था कि अगर स्थिति बदली तो जांच फिर से शुरू की जा सकती है।

अब छूटेंगे चीन और पाकिस्तान के पसीने, अमरीका भारत को देगा THAAD मिसाइल सिस्टम

क्या है मामला

कई स्वीडिश महिलाओं ने असांजे के खिलाफ रेप का आरोप लगाया था। सरकार ने स्थानीय अटॉर्नी से इस मामले में जांच शुरू करने के लिए कहा गया । लेकिन इससे पहले कि इनके खिलाफ कोई कार्रवाई की जाती, वह ब्रिटेन भाग गए। उधर अप्रैल में उनकी गिरफ्तारी के तुरंत बाद अमरीकी अधिकारियों ने विकीलीक्स द्वारा संवेदनशील सैन्य और राजनयिक दस्तावेजों को जारी करने से संबंधित एक मामले में उनके प्रत्यर्पण के लिए अनुरोध किया था।

 

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned