UPSC Civil Service Result: टॉप 25 में हैं 10 लड़कियां, टॉप 10 में से 4 राजस्थान के

UPSC Civil Service Result: टॉप 25 में हैं 10 लड़कियां, टॉप 10 में से 4 राजस्थान के

Sunil Sharma | Updated: 06 Apr 2019, 12:38:38 PM (IST) परीक्षा

जयपुर के कनिष्क टॉपर

संघ लोक सेवा आयोग ने शुक्रवार को सिविल सेवा परीक्षा 2018 के अंतिम नतीजे घोषित कर दिए हैं। राजस्थान के जयपुर निवासी कनिष्क कटारिया ने परीक्षा में टॉप किया है। लड़कियों में भोपाल की सृष्टि जयंत देशमुख अव्वल रहीं। टॉप 10 में 4 अभ्यर्थी राजस्थान से हैं। कनिष्क समेत जयपुर से 3 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। जयपुर के अक्षत जैन नंबर दो पर तो अजमेर के किशनगढ़ निवासी श्रेयांस कुमठ चौथे स्थान पर रहे। जयपुर के शुभम गुप्ता ने छठी रैंक हासिल की है।

टॉप 25 में 10 लड़कियां
खास बात यह है कि सिविल सेवा परीक्षा में टॉप करने वाले 25 अभ्यर्थियों में से 10 लड़कियां हैं, जबकि 15 लडक़े हैं। कुल 759 चुने गए अभ्यर्थियों में 577 लडक़े और 182 लड़कियां हैं। उदयपुर के अतिराग चपलोत ने 15वां स्थान हासिल किया है।

12वें पर बस्तर की बेटी
छत्तीसगढ़ के बस्तर के गीदम की नम्रता जैन ने 12वीं रैंक हासिल की। 2016 में नम्रता की 99वीं रैंक थी। उन्हें आइपीएस मिला था।

रैंक 01 - कनिष्क
माता: सुमन वर्मा, गृहिणी
पिता: सांवरमल वर्मा, आइएएस
कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग में बीटेक डिग्री लेने वाले कनिष्क ने सिविल सेवा परीक्षा गणित से दी थी। कहा, यह मेरा पहला प्रयास था। मैंने दक्षिण कोरिया में डेढ़ साल काम किया था। वहां लगा, देश के लिए कुछ बड़ा करना होगा।

रैंक 02 - अक्षत
माता: सिमी जैन, आइआरएस
पिता: डी.सी. जैन, आइपीएस
अक्षत बोले, सिविल सर्विसेस में कॅरियर बनाने से डरता था। जब बंगलुरू में इंटर्नशिप कर रहा था तब मुझे लगा कि लाइफ में कुछ बड़ा करना होगा। कामयाबी पानी है तो खुद की रणनीति बनाएं दूसरे की कॉपी न करें।

रैंक 04 - श्रेयांस
माता: चंद्रकला, गृहिणी
पिता: प्रताप कुमठ, व्यवसायी
श्रेयांस ने कहा, वे रोजाना 6 से 8 घंटे पढ़ते थे। एक साल तक दिल्ली में रहकर पढ़ाई की है। परीक्षा एंथ्रोपॉलोजी से दी थी। मैं प्रशासनिक सेवा में चयन के बाद जनकल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाना चाहता हूं।

रैंक 06 - शुभम
माता: अनुपमा गुप्ता, गृहिणी
पिता: अनिल गुप्ता, बिल्डर
जब मैं पांचवीं में था तब से मेरे पिता चाहते थे कि मैं हमेशा टॉप पर रहूं। पिता की चाहत ने मुझे प्रेरित किया और आज वे मुकाम हासिल कर लिया है। आइएएस बनने के बाद जहां भी पोस्टिंग मिलेगी वहां बेहतर कार्य से देश की सेवा करूंगा।

बचपन का सपना था जो आज पूरा हो गया: सृष्टि
सृष्टि ने भोपाल के राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विवि से केमिकल इंजीनियरिंग से बीई डिग्री ली है। सृष्टि 5वें स्थान पर हैं। उन्होंने कहा, यह मेरा बचपन का सपना था। यह मेरा पहला और अंतिम प्रयास था। सृष्टि के टॉप 5 में आने की खबर मिली तो घर वाले खुशी से झूम उठे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned