इस ऐप के जरिये न सिर्फ रैगिंग से बचेंगे छात्र छात्राएं बल्कि अभिभावकों तक पहुंचेंगी पल पल की खबर

इस ऐप के जरिये न सिर्फ रैगिंग से बचेंगे छात्र छात्राएं बल्कि अभिभावकों तक पहुंचेंगी पल पल की खबर

Anoop Kumar | Publish: Jan, 30 2018 04:58:57 PM (IST) Faizabad, Uttar Pradesh, India

फैजाबाद के डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय में हुआ रैगिंग रोकने वाले खास मोबाइल ऐप रक्षक की लांचिंग

फैजाबाद . विश्वविद्यालय एवं सम्बद्व महाविद्यालयों के छात्र एवं छात्राओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए डिजाइन किए गए ‘‘रक्षक’’ मोबाइल एप्प की लाॅचिंग फैजाबाद के डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन के सभागार में जिलाधिकारी डॉ अनिल कुमार पाठक और कुलपति प्रो मनोज दीक्षित ने संयुक्त रूप से किया . बताते चलें की इस अत्याधुनिक सुविधा का शुभारंभ प्रदेश की पर्यटन मंत्री प्रो0 रीता बहुगुणा जोशी को करना था लेकिन किन्ही कारणों से पर्यटन मंत्री नही आ सकीं जिसके बाद डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के कौटिल्य प्रशासनिक भवन के सभागार में कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित की अध्यक्षता में समारोह का आयोजन हुआ और रक्षक मोबाइल ऐप की लांचिंग हुई . ये ख़ास मोबाइल ऐप यदि कोई छात्र अथवा छात्रा रैगिंग अथवा असुरक्षा जैसी स्थिति में फंसता है तो इस मोबाइल एप्प के माध्यम से मात्र वाल्यूम का बटन दो बार दबाने पर उस छात्र/छात्रा की लोकेशन तथा मोबाइल नं0 एस0एम0एस0 के माध्यम से विश्वविद्यालय के प्राक्टर, अधिष्ठाता छात्र कल्याण तथा इस एप्प से जुड़े पुलिस स्टेशन अथवा पुलिस चौकी के इन्चार्ज को एक सहायता मैसेज के साथ ट्रांसफर हो जाएगी.

फैजाबाद के डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय में हुआ रैगिंग रोकने वाले खास मोबाइल ऐप रक्षक की लांचिंग

रैगिंग को रोकने के लिए अवध विश्वविद्यालय द्वारा बनवाए गए इस विशेष आपकी खासियत यह होगी कि इसमें सॉफ्टवेयर के माध्यम से ना सिर्फ छात्र और छात्राओं को रैगिंग और सेक्सुअल हरासमेंट से निजात मिलेगी, बल्कि विश्वविद्यालय से जुड़ी तमाम जानकारियों से सभी छात्रों को अवगत कराया जा सकेगा . इस सॉफ्टवेयर में एस ओ एस अलर्ट की सुविधा उपलब्ध होगी . इसमें छात्र-छात्राएं अपनी छुट्टी का आवेदन भी कर सकते हैं और छात्रों को दी जानेवाली छुट्टी की जानकारी उनके अभिभावकों तक भी पहुंचती रहेगी . इस सुविधा के मिलने से छात्र-छात्राओं को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है कि वह इस समय कहां है . वही खास बात यह है कि इस सॉफ्टवेयर को अपडेट करने के लिए किसी भी प्रकार के कंट्रोल रूम की जरूरत नहीं होगी . निश्चित रूप से रक्षक मोबाइल एप्स कहीं ना कहीं छात्र छात्राओं को सुरक्षा की दृष्टि से एक बड़ी सुविधा उपलब्ध होगी

Ad Block is Banned