बड़ी लापरवाही : फैजाबाद में दुर्गा पूजा आयोजन के नाम पर होगी लाखों श्रद्धालुओं की जान दांव पर

Anoop Kumar

Publish: Sep, 17 2017 05:13:14 (IST) | Updated: Sep, 18 2017 12:28:18 (IST)

Faizabad, Uttar Pradesh, India
बड़ी लापरवाही : फैजाबाद में दुर्गा पूजा आयोजन के नाम पर होगी लाखों श्रद्धालुओं की जान दांव पर

हाईटेंशन लाइन के करीब से लोहे के पाइपों पर दौड़ेंगे बिजली की झालरों के तार हवा का एक झोंका बन सकता है हादसे की वजह

फैजाबाद . आगामी 21 सितम्बर से शारदीय नवरात्र का पवित्र महीना शुरू हो रहा है जिसमे माँ जगतजननी के 9 स्वरूपों की आराधना और पूजा की जायेगी . इस मौके पर पूरे देश भर में दुर्गा पूजा का त्यौहार मनाया जायेगा .इस वर्ष भी दुर्गा पूजा और मुहर्रम एक साथ पड़ने के कारण दोनों त्योहारों को सकुशल संपन्न कराना सरकार और प्रशाशन की अहम् ज़िम्मेदारी हो गयी है जिसे दृष्टिगत रखते हुए . फैजाबाद में केंद्रीय दुर्गा पूजा समिति व जिला प्रशासन रामलीला व दुर्गा पूजा को सकुशल संपन्न कराने के लिए तैयारियां शुरू कर दी है. दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन और मोहर्रम का जुलूस एक ही दिन होने के कारण जिला प्रशासन के सामने चुनौती खड़ी हो गई है. वहीँ फैजाबाद शहर में दुर्गा पूजा आयोजन को भव्यता देने के नाम पर मेले में आने वाले लाखों श्रधालुओं की जान जोखिम में डालने का काम शुरू हो गया है शहर में कई स्थानो पर दुर्गा प्रतिमाओं का पंडाल व सड़कों के किनारे ललगाई जा रही विद्युत् सजावट के लिए लोहे के पाइपों का प्रयोग किया जा रहा है जो खतरे का सबब बन सकते हैं क्योंकि इन्हीं लोहे के पाइपों के पास से बिजली के तार गुजर रहे हैं अगर कहीं ये तार लोहे की राड से छू गए तो बिजली का करंट श्रद्धालुओं की जान ले सकता है. चौकाने वाली बात ये है कि इन लोहे की पाइपों और बिजली के तारों के बीच की दूरी 6 इंच से भी कम है ऐसे में ये बिजली के तार लोहे की पाइपों पर चिपक जाएँ ये कहा नही जा सकता .


हाईटेंशन लाइन के करीब से लोहे के पाइपों पर दौड़ेंगे बिजली की झालरों के तार हवा का एक झोंका बन सकता है हादसे की वजह

फैजाबाद जनपद में 1148 जगहों पर दुर्गा प्रतिमाओं के पंडाल लगाए जा रहे हैं इसके साथ ही जिले में 100 स्थानों पर रामलीला का मंचन होगा, 19 सितंबर से रामलीला का मंचन व 21 सितंबर से दुर्गा पूजा शुरू हो रही है,नगर में 24 स्थानों पर 21 सितंबर से ही दुर्गा पूजा शुरु हो जाएगी जबकि जिले में अन्य स्थानों पर 27 सितंबर से दुर्गा पूजा शुरू होगी,दुर्गा पूजा प्रतिमाओं का विसर्जन और मुहर्रम का जुलूस एक ही दिन होने के कारण जिला प्रशासन चौकन्ना हो गया है,केंद्रीय दुर्गा पूजा समिति व मौलानाओं की बैठक में जिला प्रशासन ने तय किया है कि मेहंदी का जुलूस दिन में ही निकलेगा और दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दिन 11 बजे के पहले ही मुहर्रम के जुलूस को संपन्न कराया जाएगा, इसके लिए दोनों समुदायों के समितियों से प्रशासन ने समझौता कराया गया है . दुर्गा पूजा के दौरान शहर में नाका मकबरा से लेकर फतेहगंज रेलवे क्रासिंग तक दुर्गा पूजा  पंडालों के पास प्रकाशोत्सव के लिए जिन खंबों प्रयोग किया जा रहा है वह लोहे के हैं और उन लोहे के पाइपों के बगल से बिजली के तार गुजर रहे हैं और जरा सी हवा चलने के बाद यह बिजली के तार लोहे के पाइपों से चिपक सकते हैं ऐसे में पाइपों के राडो को लगाना श्रद्धालुओं के लिए खतरे का सबब बन सकता है.दुर्गा पूजा प्रतिमाओ के विसर्जन 3 दिन पहले ही शहर में लाखों की भीड़ होती है जिसमें ऐसी लापरवाही दुर्गा पूजा समितियों व जिला प्रशासन को भारी पड़ सकती है.

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned