जब बीजेपी विधायक ने नहीं सुनी बात तो फैजाबाद में ग्रामीणों ने खुद बना दी तीन किलोमीटर लम्बी सड़क

रुदौली विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीणों ने ऐसा कदम उठाया जिसने राजनेताओं के चरित्र और सियासी वादों की भी हवा निकाल दी

By: अनूप कुमार

Published: 11 Sep 2017, 12:18 PM IST

फैजाबाद . सरकारी अमले और राजनेताओं के बेरुखे व्यवहार और उपेक्षा से आजिज रुदौली विधानसभा क्षेत्र के इटहा गांव के तीन मजरे बालापुर बच्चापुर और कैंती के ग्रामीणों ने ऐसा कदम उठाया जिसने न सिर्फ सरकारी मशीनरी के कामकाज पर सवाल उठा दिया बल्कि राजनेताओं के चरित्र और सियासी वादों की भी हवा निकाल दी . हर बार चुनाव आने पर जनता से लोक लुहावने वादे कर उन्हें हर संभव मदद देने की बात कहने वाले और इलाके में विकास की गंगा बहाने वाले नेताओं ने जब अपने वादे से बेवफाई की तो इलाके की गरीब ग्रामीण जनता ने अपनी समस्या से खुद लड़ने की ठानी और गाँव तक जाने वाली ऊबड़ खाबड़ सड़क को ग्रामीणों ने खुद मिलकर बना दिया . जिले के रुदौली विधानसभा क्षेत्र में ग्रामीणों ने 3 किलोमीटर मिट्टी की सड़क बनाकर एक मिसाल पेश की है. ग्रामीणों का कहना है कि रास्ता न होने के कारण उन्हें भारी मुसीबत का सामना करना पड़ता था इस मामले को लेकर क्षेत्रीय विधायक से भी मदद मांगी गयी लेकिन कहीं से कोई सुनवाई न होने के कारण ग्रामीणों ने अपनी मदद खुद करने की ठानी और उन्होंने सामूहिक श्रम के जरिये सड़क बनाने की ठानी और इस संकल्प को पूरा भी किया . सिर्फ यही नहीं जनप्रतिनिधियों से नाराज ग्रामीणों ने नेताओं को चेतावनी भी दी कि अगर कोई नेता वोट मांगने इस गांव में आया तो गांव वाले उनको गांव से बाहर खदेड़ देंगे . सरकारी और सियासी उपेक्षा की ये हकीकत है रुदौली विधानसभा क्षेत्र के इटहा गांव के तीन मजरे बालापुर बच्चापुर और कैंती की जहां पर गाँव में जाने के लिए संपर्क मार्ग नहीं है जिससे सैकड़ों ग्रामीणों को आने जाने में दिक्कत होती है, यही नहीं ग्रामीणों कहना है कि अगर किसी की मौत हो जाए तो शव ले जाने के लिए रास्ते नहीं है ऐसे में इन जनप्रतिनिधियो का क्या काम इनको क्यों वोट दिया जाए, इन सब चीजों से नाराज ग्रामीणों ने नेताओं को वोट ना देने का संकल्प लिया है और इटहा बालापुर बच्चापुर व कैंती गांव के ग्रामीणों ने जिसमें महिलाएं भी शामिल थी सभी ने मिलकर ट्रैक्टर लगाकर मिट्टी खोदकर 3 किलोमीटर सड़क बना दी.जब जनप्रतिनिधियों के वादे काम नहीं आए तो ग्रामीणों के हौसले काम आ गए अपने इन हौंसलों से ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों को आइना दिखाया है.

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned