बड़ी खबर : शिया समुदाय के बाद अब किछौछा शरीफ के सुन्नी धर्मगुरु ने कहा जहाँ विराजमान हैं रामलला वही बनना चाहिए राम मंदिर

किछौछा शरीफ के सुन्नी धर्मगुरु सैयद मुहम्मद इरफान ने कहा मुस्लिम समुदाय के लोगों को बरगलाकर तथाकथित धर्म के ठेकेदार कर रहे हैं राजनीति

By: अनूप कुमार

Published: 28 Aug 2017, 02:26 PM IST

अनूप कुमार 

फैजाबाद . धार्मिक नगरी अयोध्या में विवादित स्थल पर राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के हिन्दू पक्ष के दावे पर देश के शिया समुदाय के लोगों द्वारा सहमती जताए जाने के बाद अब सुन्नी समुदाय के धर्मगुरु भी राम मंदिर निर्माण के पक्ष में आ गए है आज किछौछा शरीफ के धर्मगुरु सैय्यद मोहम्मद इरफ़ान ने अयोध्या के विवादित परिसर में राम मंदिर निर्माण का एलान किया. धर्म नगरी अयोध्या के साधु संत हो या फिर मुस्लिम पक्षकार सभी शुरू से ही सुलह समझौते से अयोध्या विवाद को हल करने के लिए प्रयासरत रहे हैं. इसी कड़ी में बीते दिनों शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से मंदिर निर्माण के लिए हलफनामा और अब सुन्नी धर्मगुरु की मंदिर निर्माण के लिए पहल इस बात की तरफ इशारा करती है कि कहीं ना कहीं मंदिर निर्माण का रास्ता प्रशस्त होता नजर आ रहा है. राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के बैनर तले आयोजित प्रेसवार्ता में सुन्नी धर्मगुरु सैयद मुहम्मद इरफान ने बड़ी घोषणा करते हुए अयोध्या के विवादित परिसर में भव्य राम मंदिर निर्माण की बात कही.उन्होंने कहा कि सुन्नी समुदाय के लोगों को जोड़ने का काम शुरू कर दिया गया है इसके लिए जनजागरण शुरू हो चुका है.

किछौछा शरीफ के सुन्नी धर्मगुरु सैयद मुहम्मद इरफान ने कहा मुस्लिम समुदाय के लोगों को बरगलाकर तथाकथित धर्म के ठेकेदार कर रहे हैं राजनीति  

सुन्नी धर्मगुरु सैय्यद मुहम्मद इरफान की माने तो मुस्लिम समुदाय में तथ्यो की जानकारी का अभाव है और जिसका फायदा उठा कर धर्म के ठेकेदार मुस्लिम सुमदाय को गुमराह करते रहते हैं. लेकिन इसके लिए अब जनजागरण शुरू हो चुका है और जल्द ही विवादित परिसर में भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा क्योकि माननीय न्यायालय ने पहले ही सुझाव दिया है कि आपसी सहमति से मंदिर निर्माण हो सकता है. आपको बता दें की अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर जहां अभी तक विश्व हिन्दू परिषद्,राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और बजरंग दल के साथ अन्य हिन्दू संगठन प्रयासरत थे वहीँ केंद्र और प्रदेश में बीजेपी की सरकार होने के कारण तस्वीर काफी बदल चुकी है और सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आपसी सुलह समझौते से विवाद के हल का सुझाव दिए जाने के बाद दोनों पक्षों के बीच लगातार सुलह समझौते के जरिये इस विवाद के हल के प्रयास किये जा रहे हैं जिसका नतीज है कि मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा भी इस विवाद के हल के लिया सकारात्मक पहल की जा रही है . 

Show More
अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned