बाढ़ से तबाही : यहाँ तो सब कुछ बह गया है मुख्यमंत्री जी कोई तो मदद भेजिए

अयोध्या गोंडा सीमा पर रेल की पटरियों के करीब पहुंचा नदी का पानी

By: अनूप कुमार

Published: 18 Aug 2017, 03:53 PM IST

फैजाबाद . इन दिनों जहां उत्तर प्रदेश के पड़ोसी राज्य बिहार में बाढ़ ने तबाही मचा रखी है वही उत्तर प्रदेश में बहने वाली कई नदियों के जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि ने यूपी में भी बाढ़ के हालात बेकाबू कर दिए हैं . पूर्वांचल में बाराबंकी से लेकर गोरखपुर तक सरयू राप्ती सई नदी के जलस्तर में हुई बढ़ोतरी से तबाही जैसे हालात पैदा हो गए हैं . फैजाबाद जिले में भी हालात बेकाबू हो रहे हैं फैजाबाद जनपद से सटे बाराबंकी में जहां अभी तक बाढ़ से भारी तबाही की खबरें आ रही थी वहीं बाराबंकी से सटे रामसनेहीघाट रुदौली इलाके में भी तबाही का मंजर बढ़ता जा रहा है .फैजाबाद जिले के रुदौली रौनाही तटबंध फैजाबाद शहर का तटीय इलाका अयोध्या में सरयू नदी का तटीय क्षेत्र माझा दुर्गागंज और अयोध्या से सटे गोंडा जनपद की सीमा पर बसे दर्जनों गांव बाढ़ के पानी की चपेट में आ गए हैं . वही पूरा बाजार इलाके में प्राइमरी स्कूल में पानी भरने से बच्चों की पढ़ाई ठप हो गई है और बाढ़ प्रभावित इलाकों के लोग अब सूखे स्थानों की तरफ पलायन कर रहे हैं ' हालात इस कदर बेकाबू हो गए हैं की अयोध्या गोंडा सीमा पर बसे जिन गांवों में बाढ़ का पानी घुसा है उनमे दुर्गागंज माझा कटरा के गांव शामिल है और इन गांवों में रहने वाले लोगों के घरों में पानी पूरी तरह से भर गया है और घर में रखा गृहस्थी का सामान डूब गया है . . आलम यह है कि 2 जून की रोटी के लिए रखा गया अनाज भी पानी में डूब गया है और बाढ़ प्रभावित किसी तरह अपना पेट भर रहे हैं ।

अयोध्या गोंडा सीमा पर रेल की पटरियों के करीब पहुंचा नदी का पानी

अयोध्या में सरयू नदी पर बने पुल के दूसरे छोर पर गोंडा जनपद के दुर्गागंज माझा कटरा इलाके में बाढ़ के हालात बेकाबू हो रहे हैं .आलम यह की गोंडा जनपद के कटरा रेलवे स्टेशन के चारों तरफ बाढ़ का पानी भर गया है और अब यह पानी अयोध्या गोंडा मुख्य सड़क मार्ग की तरफ रुख कर रहा है . राहत की बात यह है कि अभी तक रेल पटरियों पर बाढ़ का पानी नहीं पहुंचा है जिससे रेल यातायात प्रभावित नहीं हुआ है .लेकिन लगातार बढ़ रही सरयू नदी की धारा को देखकर यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि आने वाले 48 घंटों में हालात और बेकाबू हो सकते हैं .बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले लोगों का कहना है कि प्रशासन की मदद सिर्फ अखबार के पन्नों तक सीमित है .कोई भी अधिकारी बाढ़ प्रभावित गांवों तक नहीं पहुंच रहा है पानी भरा होने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित है और लोग परेशान हैं .शुक्रवार को फैजाबाद में सरयू नदी खतरे के निशान से 99 सेंटीमीटर ऊपर बह रही थी शुक्रवार की दोपहर नदी स्थिर स्थिति में थी लेकिन आशंका इस बात की है कि अगर सरयू नदी का जलस्तर फिर से बढ़ने लगा तो हालात और ज्यादा खराब होंगे .अयोध्या फैजाबाद में सरयू नदी के किनारे तटीय इलाकों में बनी कई सड़कों पर बाढ़ का पानी घुस गया है जिसके कारण रास्ते बंद हो गए हैं .वहीं जिला प्रशासन ने बाढ़ चौकियां बनाकर और हर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में अधिकारियों कर्मचारियों की तैनाती कर बाढ़ प्रभावितों को राहत देने का प्रयास किया है .लेकिन जो मदद सरकारी तौर पर की जा रही है वह ऊंट के मुंह में जीरा है किसानों की फसल डूब जाने के कारण आने वाले समय में उनके सामने जीविका का संकट मुंह बाए खड़ा है लेकिन वर्तमान में भी उन्हें पेट भरने के लिए अनाज नहीं मिल रहा है .

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned