फैजाबाद के उलेमाओं ने श्री श्री का साथ देने से किया इनकार कहा जो जायेगा साथ उसका करेंगे बायकाट

Anoop Kumar

Publish: Feb, 15 2018 01:17:18 (IST)

Faizabad, Uttar Pradesh, India
फैजाबाद के उलेमाओं ने श्री श्री का साथ देने से किया इनकार कहा जो जायेगा साथ उसका करेंगे बायकाट

फैजाबाद की टाटशाह मस्जिद में बिअथक के दौरान फैजाबाद शहर के उलेमाओं और मौलानाओं ने कहा नही छोड़ सकते मस्जिद का दावा

फैजाबाद . अयोध्या के प्रसिद्ध राम जन्म भूमि बाबरी मस्जिद विवाद के हल के लिए जुटे आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर के प्रयासों को झटका लगता दिख रहा है ,अभी तक जहाँ इस मुकदमे के हिन्दू पक्षकार ही उनसे दूरी बनाये हुए थे वहीँ अब उनकी सुलह समझौते की रेल में अहम् किरदार निभाने वाले आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड के बर्खास्त सदस्य सलमान नदवी पर भी पैसे और पद के लालच में इस मुहीम में शामिल होने के आरोप लग रहे हैं, वहीँ बड़ी संख्या में मुस्लिम धर्म के उलेमा और धर्म गुरु भी अब नदवी और श्री श्री के सुलह के प्रस्ताव को खारिज़ कर रहे हैं और विवादित स्थल से कहीं दूर मस्जिद बनाने और विवादित भूमि से अपना दावा छोड़ने की बात से इनकार कर रहे हैं . फैजाबाद शहर का आम मुस्लिम समुदाय बाबरी मस्जिद स्थल को किसी मंदिर या अन्य उपयोग के लिए कतई देने को राजी नहीं है. मस्जिद की जगह राममंदिर के लिये दिये जाने की कुछ मुस्लिम नेताओं की ओर से की जा रही पहल को आम मुसलमानों ने पूरी तरह से खारिज कर दिया जाना अयोध्या मुद्दे के बातचीत से समाधान की राह में बड़ा झटका हो सकता है, सुन्नी मुस्लिम समुदाय की सबसे बड़ी इबादतगाह जामा मस्जिद टाटशाह में आयोजित हंगामी बैठक में खुले तौर पर मुसलमानों ने साफ तौर से जाहिर कर दिया है कि वो विवादित भूमि से अपना दावा छोड़ने को तैयार नहीं हैं .


फैजाबाद की टाटशाह मस्जिद में बिअथक के दौरान फैजाबाद शहर के उलेमाओं और मौलानाओं ने कहा नही छोड़ सकते मस्जिद का दावा


इस बैठक में जहां ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के पूर्व सदस्य मौलाना सलमान नदवी के उस प्रस्ताव जिसमें मस्जिद की जगह राम मंदिर निर्माण के लिये देने की बात कही गई है थी उस प्रस्ताव की कड़े शब्दों में निंदा की गयी.बैठक में यह फैसला लिया गया कि बातचीत से मसले का हल निकालने के उद्देश्य से अयोध्या आ रहे आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर से मुस्लिम समुदाय दूरी बनाये रखेगा. यह भी निर्णय हुआ कि अगर कोई मुसलमान श्रीश्री के साथ वार्ता में शामिल होता है तो उसका सामाजिक बॉयकाट किया जायेगा . इसके पहले भी जब आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर अयोध्या फैजाबाद दौरे पर आये थे, तो भी उन्हें मुस्लिम उलमाओं का खास साथ नहीं मिला था. श्रीश्री की फार्ब्स इंटर कॉलेज में आयोजित सभा में शहर के मस्जिदों के इमामों को भी बुलाया गया था, लेकिन एक-दो उलमाओं को छोड़कर अन्य मुस्लिम धर्मगुरूओं ने बैठक से दूरी बनाये रखी थी. टाटशाह में आयोजित बैठक की जानकारी टाटशाह मस्जिद प्रबंध कमेटी के सचिव हाजी गुलाम अहमद सिद्दीकी व मुस्लिम मजलिस के प्रांतीय अध्यक्ष अधिवक्ता मोहम्मद नदीम सिद्दीकी ने दी। बैठक में मौलाना शाबान, मौलाना सदरे आलम, हाजी अकबर अली, हाजी खुर्शीद अंसारी, हाजी अब्दुल वहीद, अधिवक्ता शकीलुर्रहमान, अकील सिद्दीकी, मो.इश्हाक खान, मो.फिरोज, नसीउल्लाह खान, अब्दुल खालिक, काजी मोहम्मद इमरान सहित अन्य मस्जिदों के इमाम मौजूद रहे.

1
Ad Block is Banned