अवध यूनिवर्सिटी में गुरुकुल शिक्षण पद्धति पर आधारित पांच दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का हुआ समापन

राष्ट्रीय कार्यशाला के प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

By: अनूप कुमार

Published: 24 May 2018, 06:42 PM IST


फैजाबाद : दृश्य कला विभाग एवं अर्थशास्त्र एवं ग्रामीण विकास विभाग के संयुक्त तत्वाधान में सम्पन्न हुई गुरुकुल शिक्षण पद्धति पर आधारित पांच दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला के प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आचार्य मनोज दीक्षित कुलपति डॉ0 राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद रहे. कुलपति महोदय ने कार्यशाला के प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को उनकी कृतियों के लिए आशीर्वचन देते हुए यह बताया कि अभी इन्हें और भी श्रेष्ठ कृतियों का सृजन करना है. हर विद्यार्थी को गहन चिंतन के साथ नई-नई कलाकृतियों का निर्माण करना चाहिए, इसके लिए विश्वविद्यालय स्तर पर उन्हें हर संभव सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी . अर्थशास्त्र एवं ग्रामीण विकास विभाग की विभागध्यक्ष प्रो0 मृदुला मिश्रा ने सभी प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को उनके वैदिक शिक्षण पद्धति पर आधारित चित्रण के लिए आशीर्वचन दिया

राष्ट्रीय कार्यशाला के प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

प्रो0 आशुतोष सिन्हा, अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ0 राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, फैजाबाद ने शैक्षिक वातावरण पर चर्चा की एवं माननीय कुलपति जी द्वारा किए जा रहे कार्य की प्रशंसा की और कहा यह कार्यशाला छात्र-छात्राओं के व्यक्तित्व के विकास के लिए मील का पत्थर साबित होगा. दृश्य कला विभाग के समन्वयक डॉ0 विनोद कुमार श्रीवास्तव ने बताया की यह कार्यशाला गुरुकुल शिक्षा पद्धति पर आधारित रही और इस कार्यशाला द्वारा छात्र-छात्राएं गुरुकुल शिक्षण पद्धति को गहराई से समझ सके क्योंकि यह गुरुकुल शिक्षण पद्धति ही हमारी शिक्षण पद्धति की रीड की हड्डी है, चाहे वह वैदिक गणित हो या वास्तु शास्त्र हो, आधुनिक शिक्षण पद्धति का आधार यही शिक्षण पद्धति रही है. कार्य परिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह ने कार्यशाला में किए गए वैदिक गुरुकुल शिक्षण पद्धति पर आधारित चित्रों की प्रशंसा की एवं दृश्य कला विभाग तथा अर्थशास्त्र एवं ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा किए जा रहे इन रचनात्मक कार्यों की सराहना की. कार्यशाला में मुख्य रूप से कार्यशाला संयोजक सरिता द्विवेदी, कार्यशाला डायरेक्टर डॉ0 पल्लवी सोनी, प्रशिक्षक रीमा सिंह, डॉ0 प्रदीप कुमार त्रिपाठी, डॉ0 अलका श्रीवास्तव, डॉ0 सविता देवी, डॉ0 प्रिया कुमारी, शकुन्तला मिश्रा के आशीष के साथ बड़ी संख्या में शिक्षक गैर -शैक्षणिक कर्मचारी एवं प्रतिभागी छात्र छात्राएं उपस्थित रहे.

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned