राम मंदिर निर्माण को लेकर तोगडिया के पक्ष में उतरे संत

Satya Prakash

Publish: Jul, 14 2018 01:07:04 AM (IST) | Updated: Jul, 15 2018 02:13:20 AM (IST)

Faizabad, Uttar Pradesh, India

राम नगरी अयोध्या में अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद के तत्वाधान में संतो ने की बैठक, तोगडिया के पक्ष में उतरे संत

अयोध्या : राम नगरी अयोध्या में हुए मुस्लिम वजू व नमाज के विरोध में तोगड़िया के साथ उतरे अयोध्या के संत कहा कि अब योगी सरकार भी मुस्लिम तुष्टीकरण का कार्य कर रही है और संतो को राम मंदिर के ध्यान से भटकाने के लिए साजिश कर रही है तथा संत जिस स्थान पर मुस्लिम महिलाओ ने वजू कर स्थान की पवित्रता को नष्ट करने का कार्य किया है इसके लिए अब सरयू घाट पर उस स्थान पर सरयू में दुग्धाभिषेक कर पवित्र करने का कार्य करेगी.

सरकार मुस्लिम तुष्टीकरण के रास्ते पर

अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद के द्वारा अयोध्या के खड़ेश्वरी आश्रम में संतो की बैठक आयोजित किया गया इस बैठक में अयोध्या के पवित्रता और सुचिता को बचने के लिए बनाये जाने की चर्चा हुई जिसमे जिस प्रकार आज अब भाजपा की सरकार मुस्लिम वोट के लिए हिन्दुओ के धार्मिक स्थानों के साथ अपमान किया जा रहा है और अयोध्या में खंडहर पड़े माजारो को पुनर जीवित करने के लिए बसों में भर भर कर अयोध्या लाया जा रहा है तो कहीं न कहीं राम मंदिर निर्माण को लेकर सरकार हिन्दुओ को भ्रमित करने का कार्य करने की साजिश का आरोप लगाया गया.


सरयू नदी की पवित्रता के लिए होगा दुग्धाभिषेक

महंत दिलीप दास ने बताया कि आज वर्तमान सरकार जिस प्रकार हिन्दुओ को राम मंदिर के ध्यान से भटकाने कार्य कर रही है इससे लगता है कि भाजपा और कांग्रेस में कोई अंतर नहीं रह गया है अयोध्या में इस प्रकार से कोई साजिश सफल नहीं होने देंगे इसके लिए संतो चाहे सडको पर भी उतरना पड़े. तथा बताया कि माँ सरयू हमारी आस्था का प्रतिक है संतो का मानना है कि कुछ लोगो ने सरयू के इस स्थान को वजू के द्वारा अपवित्र करने की चेष्टा है इसलिए अब संत उसी स्थान पर माँ सरयू में गौ माता के दूध के अभिषेक कर पवित्रता और शुद्धता के लिए संकल्पित होंगे.

हिन्दू समाज को भ्रमित करने कर रही साजिश रच रही सरकार

अंतर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद् के क्षेत्रीय संगठन मंत्री जितेन्द्र शास्त्री ने बताया कि अयोध्या की पवित्रता को नष्ट करने की साजिश के तहत बसों में भर कर मुसलमानों को अयोध्या लाया गया था जिससे उपेक्षित मजारो को पुनः पूजित करने के लिए लोगो को लाये थे इसके पीछे साजिश है कि बड़ी मात्रा में जब मुस्लिम आयेंगे तो यहाँ की हिन्दू शक्ति जो राम जन्मभूमि के लिए लगातार संघर्ष करती है उसे दबाने का कार्य करने की कोशिश में है लेकिन इन लोगो का राम मंदिर निर्माण के लिए किया जा रहा कार्य सिर्फ ढोंग है तथा बताया कि यदि आप राम मंदिर के लिए दुआ कर रहे हो तो आप के किसी भी मस्जिद में लोगो को हनुमान चालीसा पढाये जिसके लिए आज राष्ट्रीय बजरंग दल के एक हजार कार्यकर्ता तैयार है मस्जिद में हनुमान चालीसा पढने के लिए , लेकिन आप अपनी पद्धति से राम मंदिर बनाने की बात करते हो वह गलत है हिन्दू समाज खुद सक्षम है. प्रदेश सरकार भी अब मुस्लिम के तुष्टीकरण के रास्ते पर चल रही है इसलिए मुस्लिमो को खुश करने के लिए अयोध्या में उनको अधिकार देने के प्रयास कर रही है जिसके कारण बाहर से मुस्लिमो को ला करके अयोध्या में जितने भी टूटी फूटी मजारे है उनका पुनः निर्माण करा के उस स्थान का जीर्णोद्धार कर अधिक से अधिक अयोध्या में मुस्लिमो का घुसपेट कराना चाहती है औरअयोध्या में हिन्दुओ के शक्ति को छीन भीन कर मुसलमानों का हक़ देना चाहती है जो सरकार को इस तरह का कार्य करने नहीं दिया जाएगा.

Ad Block is Banned