एसएसपी ने अपने बगल कुर्सी पर बूढ़ी महिला को बैठाकर पानी पिलाया और कहा अम्मा परेशान न हो मै हूँ

एसएसपी ने अपने बगल कुर्सी पर बूढ़ी महिला को बैठाकर पानी पिलाया और कहा अम्मा परेशान न हो मै हूँ

Anoop Kumar | Publish: May, 17 2018 07:45:23 PM (IST) Faizabad, Uttar Pradesh, India

Upफैज़ाबाद के एसपी ग्रामीण संजय कुमार ने पेश की ज़िम्मेदारअधिकारी की मिसाल एक वृद्ध महिला को दिलाया नया जीवन

अनूप कुमार
फैजाबाद : आमतौर पर ख़ाकी की जो तस्वीर एक आम इंसान के जेहन में बस चुकी है वो बहुत बेहतर नहीं कही जा सकती ,पुलिस थानों में फ़रियाद लेकर पहुँचने वालों के साथ होने वाले सुलूक की खबरें अक्सर अखबारों की सुर्खियाँ बन जाती हैं , लेकिन इन्ही खाकी वर्दीधारियों में कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनकी वजह से खाकी की साख़ आज भी ज़िंदा है और जिन्हें मित्र पुलिस कहते हुए संकोच नहीं होता ,एक ऐसी ही तस्वीर से हम आपको रूबरू करा रहे हैं ,उम्र 90 वर्ष,पैरों में खड़े रहने की ताकत नहीं और आये दिन बेटे,बहू के साथ ही पोतियों से अपशब्दों के साथ ही पिटाई का दंश भोग रही वृद्धा दर दर भटकने के बाद जब नाउम्मीद हो गयी तो उसने आख़िरी उपाय के तौर पर पुलिस की मदद लेने की सोची ,हालांकि वृद्ध महिला की हालत देख कई लोगों ने कहा बड़े अधिकारी हैं मत जाओ मिलेंगे नहीं सुनंगे नहीं ,लेकिन अपने हालात की मारी 90 वर्षीय महिला एसपी ग्रामीण के दफ़्तर किसी तरह पहुँच गयी ,लेकिन फैजाबाद के एसपी ग्रामीण संजय कुमार ने वृद्ध महिला के साथ जो व्यवहार किया उसे देख खुद महिला भी चकित रह गयी ,एसपी ग्रामीण ने मानवता दिखाते हुए केंद्र सरकार के माता-पिता और वरिष्ठ नागरिको का भरण पोषण तथा कल्याण अधिनियम के तहत वृद्धा के फ़रियाद पर सर्वोच्च नयायालय के निर्देशों के साथ ही इस अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही करके वृद्धा को राहत पहुंचाई .

फैज़ाबाद के एसपी ग्रामीण संजय कुमार ने पेश की ज़िम्मेदारअधिकारी की मिसालएक वृद्ध महिला को दिलाया नया जीवन

अपनी ही संतान की उपेक्षा,प्रताड़ना और फिर मानसिक के साथ ही शारीरिक उत्पीडन की पराकाष्ठा को सहकर जीवन के अंतिम पलों को सिसकियों के बीच गुजारकर कितने ही वृद्ध माता-पिता प्राण गंवा देते थे,जिन्हें इन विषम परिस्थितियों से बाहर निकालने के लिए केंद्र सरकार ने माता-पिता और वरिष्ठ नागरिको का भरणपोषण तथा कल्याण अधिनियम लागू किया,जो ऐसे वृद्ध माता-पिता के लिए संजीवनी साबित हो गया है,जो अपनी ही औलादों के दिए दर्द के बीच जीवन गुजारने को मजबूर थे,सुनिए नब्बे वर्षीय एक वयोवृद्ध मां के दर्द को उसी की ज़ुबानी सुनकर एक बड़े पुलिस अधिकारी का ह्रदय द्रवित हो गया और उन्होंने महिला को न सिर्फ अपने बगल कुर्सी पर बैठाया बल्कि अपने हांथों से पानी पिलाकर कहा अम्मा परेशान न हो तुम्हारी हर संभव मदद की जायेगी ,माता-पिता और वरिष्ठ नागरिको का भरणपोषण तथा कल्याण अधिनियम ने फैजाबाद के इनायतनगर थाना क्षेत्र के अंतर्गत स्थित शाहगंज बाजार निवासिनी 90 वर्षीय वृद्धा रामकली को भी जीवनदान मिला और बेटे,बहू और पोतियों से आये दिन पीटने से मजबूर होकर पुलिस प्रशासन के पास पहुंची,तो पुलिस ने सर्वोच्च नयायालय के निर्देशों के साथ ही माता-पिता और वरिष्ठ नागरिको का भरणपोषण तथा कल्याण अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही करके वृद्धा को राहत पहुंचाई है. जाहिर तौर पर ख़ाकी का ये चेहरा उन पुलिसवालों के लिए मिसाल है जो वर्दी का दुरुपयोग करते हैं और जनता से गलत व्यवहार करते हैं .

Ad Block is Banned