इंद्र देवता को खुश करने के लिए किया कुछ ऐसा देखकर आप भी रह जायेंगे हैरान

इंद्र देवता को खुश करने के लिए किया कुछ ऐसा देखकर आप भी रह जायेंगे हैरान

Anoop Kumar | Publish: Jul, 13 2018 05:02:11 PM (IST) | Updated: Jul, 13 2018 07:07:41 PM (IST) Faizabad, Uttar Pradesh, India

फैजाबाद के बीकापुर इलाके में ग्रामीणों ने बारिश के लिए अपनाया अनोखा तरीका

फैजाबाद : ईश्वर की माया भी अपरम्पार है एक तरफ भारी बारिश के चलते महाराष्ट्र में भारी तबाही मची है . माया नगरी मुंबई में बारिश में सड़क रेल और हवाई यातायात बाधित है . आलम ये है कि रेलवे स्टेशन पर रेल लाइन में नाव चल रही है और सड़क पर मोटर साइकिल और ऑटो रिक्शा चलने की जगह बह रहे हैं वहीँ , भारी बारिश का असर ये है कि एयर पोर्ट पर पानी भरा है और हवाई सेवा भी बाधित है . वहीँ दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के तमाम शहरों में अब भी गर्मी से परेशान लोग बारिश के इंतज़ार में भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं . इंद्र देवता प्रसन्न हों और बारिश हो इसके लिए जब विज्ञान फेल होता नज़र आ रहा है तो अब आखिरी रास्ता आध्यात्म पूजा पाठ का है बचा है . प्राचीन परम्पराओं के मुताबिक़ पुराने जमाने में गाँवों में जब बारिश नहीं होती थी तो काल कलौटी खेल खेल कर भगवान इंद्रदेव व गोवर्धन महाराज की पूजा अर्चना कर बारिश के लिए प्रार्थना की जाती थी .

फैजाबाद के बीकापुर इलाके में ग्रामीणों ने बारिश के लिए अपनाया अनोखा तरीका

कुछ इसी तरह का प्रयास फैजाबाद में भी देखने को मिला जहाँ पर्याप्त बारिश ना होने पर ग्रामीण बच्चों ने काल कलौटी खेल खेल कर भगवान इंद्रदेव व गोवर्धन महाराज की पूजा अर्चना की..काल कलौटी खेल ग्रामीण परिवेश का प्राचीन खेल है जो बारिश के लिए ग्रामीण बच्चे जमीन पर पानी डालकर उसमें खेलते हैं. ऐसा माना जाता है कि जमीन में पानी डालकर लोटने से इंद्रदेव खुश होते हैं और तब बारिश होती है .सदियों पुरानी यह परंपरा ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी कायम है जो बरसात के मौसम में बारिश ना होने पर ग्रामीण लोग जमीन पर पानी डालकर खेल खेलते हैं और खेल-खेल में भगवान इंद्र देव को प्रसन्न करने के लिए पूजा अर्चना करते हैं . इसी तरह से ही बीकापुर क्षेत्र के गुंधौर गांव में दिव्यांग पंडित समरजीत मिश्र के नेतृत्व में गांव के दर्जनों बच्चों ने जमीन पर पानी डालकर कीचड़ में खेल खेला और जमकर लोटपोट की . ऐसी मान्यता है कि इस तरह का खेल खेलकर भगवान इंद्र देव को प्रसन्न किया जाता है .

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned