करें ये उपाय ! शोला बनकर नहीं उठेगी चिंगारी

फिरोजपुर झिरका (गुरुग्राम). अप्रेल माह की शुरूआत के साथ ही तापमान में वृद्धि होने लगी है। ऐसे में जरा-सी चिंगारी कब शोला बनकर भड़क जाए, कहा नहीं जा सकता। जैसे-जैसे गर्मी बढ़ेगी, आग लगने की घटनाएं भी ज्यादा होंगी। बेहतर होगा कि थोड़ी सी जागरूकता से गर्मी में खेतों में फसलों को तो ऐसी घटनाओं से बचाने के लिए एहतियातन कदम उठाने ही होंगे, वरना जो दो घटनाएं यहां हुई हैं ऐसी घटनाओं को रोकना तो संभव होगा, नुकसान की भरपाई भी हो जाती है, लेकिन जान किसी की ना जाए,यह प्रयास सभी को मिलकर करना होगा।

By: satyendra porwal

Updated: 01 Apr 2021, 07:45 PM IST

ये हुई दो घटनाएं, गेहूं की फसल व ईंधन राख
उपमंडल के दोहा गांव में किसान के खेत में खड़ी आधा एकड़ गेहूं की फसल व नावली के किसानों का ईंधन जलकर राख हो गया। दोनों जगह फायरकर्मियों ने आग पर काबू पाया।
दोहा के किसान सुमेरी नंबरदार की आधा एकड़ जमीन पर खड़ी गेहूं की फसल में दोपहर में आग लग गई। लोगों ने आग बुझाने का प्रयास किया। लेकिन वे सफल नहीं हो सके। सूचना देने पर फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची व आग पर काबू पाया, लेकिन सुमेरी की गेहूं की फसल राख हो गई। शाम को नावली के किसान हमला के घर के पास ईंधन में आग लग गई। यहां फायरकर्मियों ने आग पर काबू पाया। आग लगने के कारणों का पता नहीं चला है।
यह सावधानी जरूरी...
-जहां फसल लहलहा रही हो या उसका भंडारण हो वहां आसपास पानी व मिट्टी की व्यवस्था हो।
-बिजली के तारों के गुजरने वाले स्थानों से तय मापदण्ड की दूरी पर फसल रखी हो।
-फसलों वाले स्थानों पर मवेशियों के ठहराव में दूरी का ध्यान रखें व मवेशियों की सुरक्षा का ख्याल रखें।
- खेतों में कार्य आने वाले वाहनों के लिए उपयोग आने वाले पेट्रोल जनित उत्पाद फसलों वाले स्थानों के पास ना हो।

satyendra porwal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned