मंत्री ने दिए मुआवजा निर्धारण प्रक्रिया जल्द पूरा करने के निर्देश

मंत्री ने दिए मुआवजा निर्धारण प्रक्रिया जल्द पूरा करने के निर्देश

राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने विभाग को निर्देश दिए

फरीदाबाद। हरियाणा के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने विभाग को निर्देश दिए है कि भारी बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान के आंकलन के लिए गिरदावरी का कार्य सम्पन्न होते ही जल्द से जल्द मुआवजा निर्धारण की प्रक्रिया को पूरा करें ताकि किसानों को समय पर मुआवजा राशि के चैक वितरित किए जा सके।

97 करोड़ की राशि पहले हुई जारी
राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव दिलीप सिंह के साथ हुई एक बैठक के दौरान कैप्टन अभिमन्यु ने इस दिशा में विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यो की समीक्षा की तथा इन कार्यो में और गति लाने के निर्देश दिए। बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री को अवगत करवाया गया कि विभाग को जल्द ही विभिन्न जिलों से गिरदावरी संबधी रिर्पोट प्राप्त हो जाएगी। रिर्पोट प्राप्त होते ही मुआवजा राशि के निर्धारण का कार्य पूरा किया जाएगा। विभाग फरवरी-मार्च 2014 में हुए नुकसान के लिए 97 करोड़ रूपए की राशि पहले ही जारी कर चुका है।

स्पेशल पॉवर अटार्नी
कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि रबी सीजन में खराब हुई फसलों के मुआवजे के लिए इस प्रकार की व्यवस्था की जा रही जिससे किसानों के पास एक महीने के अंदर मुआवजा राशि के चैक पहुंच जाए। उन्होंने बताया कि मुआवजा लेने की औपचारिकता में किसान के परिवार के अन्य सदस्यों, खासकर बहन-बेटियों को तहसील न आना पड़े, इसके लिए काश्त करने वाले किसान से सीधे स्पेशल पॉवर अटार्नी (एसपीए) फार्म भरवा लेने की दिशा में भी आवश्यक कदम उठाए जा रहे है।

मुआवजा 3600 से बढ़ाकर 5400 किया
कैप्टन अभिमन्यु ने फसलों को पहुंचे नुकसान पर चिंता जताते हुए कहा कि संकट की इस घड़ी में केंद्र व राज्य सरकार संवेदनशील है और पूरी तरह किसानों के साथ है। केंद्र सरकार ने पहली बार आपदा से प्रभावित फसलों का मुआवजा 3600 से बढ़ाकर 5400 किया है। इसी प्रकार राज्य सरकार ने भी 75 से 100 प्रतिशत नुकसान वाली गेहूं की फसल के लिए प्रति एकड़ मुआवजा 10 हजार रूपए प्रति एकड़ से बढ़ाकर 12 हजार रूपए प्रति एकड़ किया है। जबकि सरसों के लिए भी यह राशि 7.5 हजार रुपए से बढ़ाकर 10 हजार रुपए प्रति एकड़ कर दी गई है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned