यूपी ने हरियाणा से गए डेढ हजार प्रवासी श्रमिकों को वापस लौटाया

यमुनानगर, अंबाला समेत कई जिलों से गई थी बसें
दिया कानून और व्यवस्था का हवाला

By: Devkumar Singodiya

Published: 17 May 2020, 11:34 PM IST

फरीदाबाद/चंडीगढ़. लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश प्रशासन का अमानवीय चेहरा सामने आया है। हरियाणा के विभिन्न जिलों से 50 बसों में सवार होकर यूपी पहुंचे 1500 प्रवासी मजदूरों को वापस लौटा दिया गया है। इन मजदूरों को सहारनपुर से कानून-व्यवस्था का हवाला देकर वापस भेजा गया है। हरियाणा सरकार ने रविवार को इन मजदूरों को दोबारा उन्हीं जिलों में भेज दिया है जहां से इन्हें बसों में बिठाकर यूपी भेजा गया था।

हरियाणा सरकार द्वारा पिछले कई दिनों से प्रवासी मजदूरों को उनके राज्यों में भेजा जा रहा है। इस दिशा में उत्तर प्रदेश सरकार तथा हरियाणा सरकार के बीच शुरू से सहमति बनी हुई है। यूपी के कई जिले हरियाणा से सटे होने के कारण हरियाणा रोडवेज की बसों से प्रवासी मजदूरों को भेजा जा रहा है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने कुछ दिन पहले करीब 1500 कामगारों को हरियाणा से भेजने की मंजूरी दी थी, मगर रविवार को इनके साथ काफी बुरा हश्र हुआ। इन मजदूरों को लेकर हरियाणा रोडवेज की 50 बसें जैसे ही सहारनपुर की सीमा में पहुंची, उन्हें रोक दिया गया। गृह मंत्री अनिल विज के अनुसार वहां मजदूर पहले से आंदोलनरत थे।

उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारियों ने हमारे अफसरों से कहा कि इन मजदूरों को वापस लिया जाए, क्योंकि स्थिति कंट्रोल में नहीं है और उनके रुकने का कोई इंतजाम नहीं हो सकता। लिहाजा सभी मजदूरों व कामगारों को लेकर हरियाणा रोडवेज की बसें वापस आ गई। जिस जिले से जो बस आई थी, फिलहाल उसे वहीं पर भेज दिया गया है।


अपने ही लोगों को लेने को तैयार नहीं कई राज्य

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि सरकार इन कामगारों व प्रवासी मजदूरों को उनके मूल राज्यों में भेजना चाहती है और इसके लिए सरकार ने पुख्ता इंतजाम भी किए हैं। दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड समेत विभिन्न राज्य सरकारें हरियाणा सरकार को इन प्रवासियों को भेजने के लिए एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) नहीं दे रही हैं। बिना एनओसी न तो रेलगाड़ी बुक की जा सकती है और न ही बसें भेजी जा सकती हैं। यदि राज्य सरकारें एनओसी दें तो सभी प्रवासियों को चार से पांच दिन के भीतर उनके मूल राज्यों में पहुंचाने का इंतजाम किया जा सकता है।



हरियाणा के अधिक समाचारों के लिए क्लिक करें...
पंजाब के अधिक समाचारों के लिए क्लिक करें...

Show More
Devkumar Singodiya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned