तीन काले कानूनों से अर्थव्यवस्था का किला ध्वस्त हो जाएगाः राहुल गांधी

  • खेती बचाओ यात्रा के तीसरे दिन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने की मीडिया से बातचीत
  • हाथरस की घटना पर नरेन्द्र मोदी ने एक शब्द नहीं बोला, ट्वीट तक नहीं किया
  • कैप्टन अमरिन्दर सिंह चैलेंज ले रहे हैं, बेरोजगारों को रोजगार दे रहे हैं

By: Bhanu Pratap

Published: 06 Oct 2020, 01:57 PM IST

पटियाला। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की पंजाब में ट्रैक्टर रैली (खेती बचाओ यात्रा) का आज तीसरा दिन है। यात्रा शुरू करने से पूर्व सर्किट हाउस पटियाला में उन्होंने पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि खेती बचाओ यात्रा तीन काले कानूनों के खिलाफ है। यह तीन कानून खेती के मौजूदा ढांचे को खत्म करने के लिए बनाए गए हैं। इन कानूनों का सीधा असर खाद्य सुरक्षा प्रणाली पर पड़ेगा। जब तक कानून रद्द नहीं होता पार्टी का विरोध जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि हम खाद्य सुरक्षा प्रणाली को सुनिश्चित करेंगे। हम व्यवस्था परिवर्तन करेंगे पर इस सिस्टम को तोड़ेंगे नहीं। अगर यह सिस्टम टूट गया तो किसान खत्म हो जाएगा।

यह भी पढ़ें

मोदी ने देश कमजोर किया इसीलिए चीन में भारत में घुसकर हमारे सैनिक मारेः राहुल गांधी

रोजगार नहीं दे पाएंगे

उन्होंने कहा- मैंने कोरोना काल की शुरुआत में कहा था कि यह देश की अर्थव्यवस्था को तोड़ कर रख देगा। ये मेरा मजाक उड़ा रहे थे। आज खेती के लिए काला कानून ले आये। मैं आज फिर कह रहा हूं इससे अर्थव्यवस्था का किला ध्वस्त हो जाएगा। बेरोजगारी बढ़ेगी। कोई रोजगार नहीं दे पाएंगे। अभी ये मेरा मजाक उड़ाएंगे, लेकिन आप देख लेना ऐसा ही होगा।

यह भी पढ़ें

हरियाणा में राहुल गांधी की ‘खेती बचाओ यात्रा’ आज से, जानिए पूरा कार्यक्रम

नोटबंदी और जीएसटी से लघु-मध्यम उद्योग खत्म किए

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी लाकर पहले छोटे और मध्यम उद्योगों को खत्म करने का काम किया। कोरोना में अपने 2-3 मित्रों की जीएसटी माफ करके मदद की। मजदूरों को कोरोना के टाइम में पैदल घरों तक जाना पड़ा। उनको समय तक नहीं दिया गया। एकदम से लॉकडाउन का ऐलान किया गया, जिस कारण सैकडों मजदूर मारे गए।

कृषि कानून उपलब्धि तो किसान विरोध क्यों कर रहे

नरेन्द्र मोदी कृषि कानूनों को अपनी उपलब्धि बताते हैं तो किसान पटाखे क्यों नहीं चला रहा, जश्न क्यों नहीं मना रहा, विरोध क्यों कर रहा है? इन बिलों से किसानों को फायदा होता तो प्रधानमंत्री ने डिबेट क्यों नहीं कराई। कोरोना काल मे जानबूझ कर यह बिल पास किया क्योंकि उन्हें पता था किसान विरोध नहीं कर पायेगा। विपक्ष किसी भी देश में एक फ्रेमवर्क के तहत काम करता है। जिन माध्यमों से विपक्ष की आवाज जनता तक पहुंचती है वह सब माध्यम खत्म कर दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें

आखिर हरीश रावत ने ऐसा क्या कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू मान गए

1200 वर्गमीटर जमीन चीन को दे दी

नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत की जमीन किसी ने नहीं ली पर चाइना ने 1200 वर्गमीटर हमारी जमीन ले ली क्योंकि चाइना को यह पता है कि यह जो आदमी ऊपर बैठा है यह अपनी इमेज की परवाह करता है। बस अपनी इमेज बचाने के लिए देश को झूठ बोला। भारत माता की बात करने वाले नरेंद्र मोदी ने 1200 वर्गमीटर जमीन चीन को दे दी।

हाथरस घटना पर प्रधानमंत्री ने एक शब्द भी नहीं कहा

उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई घटना के बारे में कहा- पूरे देश को पीटा जा रहा है। मुझे हल्का सा धक्का लगा मैं सह लूंगा। सबसे बड़ा धक्का उस परिवार को लगा जिनकी बेटी का बलात्कार कर हत्या कर दी। मैं वहां राजनीति करने नहीं, उस परिवार के लिए और उनकी बेटी के इंसाफ के लिए गया था। मैं रोजाना महिलाओं के खिलाफ होने वाले उत्पीड़न के खिलाफ गया था। हाथरस में इतना सब कुछ हुआ पर प्रधानमंत्री ने एक शब्द भी नहीं कहा। एक ट्वीट तक नहीं किया।

कैप्टन अमरिन्दर सिंह को सराहा

कैप्टन अमरिन्दर सिंह चैलेंज ले रहे हैं। बेरोजगारों को रोजगार दे रहे हैं, यह आसान नहीं है। पंजाब के लोगों में एक अलग स्पिरिट है जिससे मैंने बहुत कुछ सीखा है। मुझ पर पंजाब के लोगों का कर्ज है। मेर दिल में यही भावना तमिलनाडु के लोगों के लिए है। मैं हर उस मुद्दे के लिए लड़ता हूं जो देश की जनता के खिलाफ है। कमजोर आदमी पर बलवान के अत्याचार के खिलाफ हमेशा खड़ा रहूंगा। मेरे शब्दों को नहीं, मेरे एक्शन को देखिए। प्रेस वार्ता में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, कांग्रेस पंजाब प्रभारी हरीश रावत, पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी मौजूद रहे।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned