रेप के बंद केस को SP ने 3 साल बाद कराया ओपेन, फिर जज के सामने मूक-बधिर लड़की ने किया जो इशारा, सभी हैरान

दिव्यांग से रेप करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसका चाचा ही निकला...

फर्रुखाबाद. थाना जहानगंज के हब्बापुर इलाके में तीन साल पहले एक मूक बधिर लड़की के साथ बलात्कार की घटना घटित हुई थी। इस दौरान वह गर्भवती भी हो गई। बच्चे की पैदा होते ही मौत हो गई थी। लेकिन पीड़िता के बयान दे पाने में सक्षम न होने के कारण फाइनल रिपोर्ट लगाकर केस बंद कर दिया गया। लेकिन पिछले दिनों क्राइम मीटिंग के दौरान एसपी संतोष मिश्रा ने दोबारा केस ओपन कराया और साइन लैंग्वेज एक्सपर्ट की मदद से पीड़िता के बयान कराए। इसके बाद जो सच्चाई निकलकर सामने आई उससे सब हैरान हो उठे। क्योंकि दिव्यांग से रेप करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसका चाचा ही निकला।

 

दिव्यांग को तीन साल बाद मिला इंसाफ

ज्यादातर मामलों में पुलिस की कार्रवाई सही न होने या एक पक्षीय कार्रवाई करने जैसे आरोप लगना आम बात हो गई है। लेकिन इसके ठीक उलट तीन साल बाद पुलिस के सफल प्रयास से दुष्कर्म पीड़िता दिव्यांग को इंसाफ मिल सका। दरअशल हब्बापुर इलाके में मूकबाधिर युवती अपने परिवार के साथ रहती थी। उसके पिता किसान हैं। साल 2015 में पड़ोस में रहने वाले उसके सगे चाचा सुभाष ने उसको अपनी हवस का शिकार बना लिया था। परिजन उसे लेकर थाने पहुंचे। लेकिन इशारों में घटना बताने और पुलिस के कुछ भी समझ न पाने के कारण केस को खत्म कर दिया गया।


चाचा ही निकला आरोपी

तीन साल बाद एसपी संतोष मिश्रा ने क्राइम मीटिंग के दौरान मामले को संज्ञान में लेते हुए टीम गठित कर थाना जहानंगज इस्पेक्टर संजीव सिंह राठौर को केस ओपन करने का निर्देश दिया। इसके बाद कोर्ट से आदेश लेकर राजकीय संकेत विद्यालय से साइन लैंग्वेज एक्सपर्ट की मदद से एसीजेएम के सामने मूकबाधिर दिव्यांग के 64 बयान दर्ज कराए गए। पीड़िता ने आप बीती सुनाई तो आरोपित का खुलासा होते ही सभी ने दांतों तले उंगलियां दबा ली। क्योंकि आरोपित कोई और नहीं उसका सगा चाचा सुभाष निकला। वहीं जब चाचा पकड़ा गया तो वह अपने आप को निर्दोष बताने लगा।

 

समाज में जाएगा अच्छा संदेश

एसपी संतोष मिश्रा ने बताया पुलिस ने आरोपी चाचा को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। इस तरह के मामलों के खुलासे के बाद समाज में एक अच्छा संदेश जाएगा। इस केस को फास्ट ट्रैक में लाकर जल्द से जल्द दोषी को सजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा। साथ ही साथ वर्तमान समय में हर प्रकार के केसों में कोई न कोई तरीका होता है। जिससे आरोपियों को आसानी से पकड़ा जा सकता है। वहीं पीड़ित को न्याय भी मिल सकता है।

 

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned