scriptFarrukhabad name Change to Panchal Nagar BJP MP Letter to CM Yogi | फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचाल नगर करने की मांग, भाजपा सांसद ने लिखा पत्र | Patrika News

फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचाल नगर करने की मांग, भाजपा सांसद ने लिखा पत्र

इलाहाबाद, फैजाबाद जैसे जिलों के नामकरण के बाद अब यूपी के फर्रुखाबाद जिले का नाम बदलने की संभावना तेज है। दरअसल, भारतीय जनता पार्टी के सांसद मुकेश राजपूत ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेटर लिखकर मांग की है कि फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचालनगर कर दिया जाए।

फर्रुखाबाद

Published: April 01, 2022 05:37:54 pm

उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ वर्षों में कई जिलों के नाम बदले हैं। इलाहाबाद, फैजाबाद जैसे जिलों के नामकरण के बाद अब यूपी के फर्रुखाबाद जिले का नाम बदलने की संभावना तेज है। दरअसल, भारतीय जनता पार्टी के सांसद मुकेश राजपूत ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेटर लिखकर मांग की है कि फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचालनगर कर दिया जाए। उन्होंने द्रौपदी के नाम पर जिले का नाम बदलकर पांचालनगर करने की मांग की है कि फर्रुखाबाद का मौजूदा नाम मुगलकालीन है। सांसद ने सीएम योगी को लेटर लिख कर कहा कि फर्रुखाबाद का इतिहास प्राचीन है। तीन नदियों गंगा, रामगंगा, काली नदी के मध्य बसा हुआ फर्रुखाबाद का इतिहास पौराणिक काल के समृद्ध है। उस समय यह पांचाल क्षेत्र कहलाता था यह शहर पांचाल राज्य की राजधानी हुआ करती थी। फर्रुखाबाद की स्थापना से पहले ही हां कंपिल, संकिसा, श्रंगारामपुर और शमसाबाद प्रसिद्ध थे।
Farrukhabad name Change to Panchal Nagar BJP MP Letter to CM Yogi
Farrukhabad name Change to Panchal Nagar BJP MP Letter to CM Yogi
राजा द्रुपद की राजधानी कंपिल में ही राजकुमारी द्रौपदी का स्वयंवर हुआ

सांसद मुकेश राजपूत ने आगे लिखा कि राजा द्रुपद की राजधानी कंपिल में ही राजकुमारी द्रौपदी का स्वयंवर हुआ था। राजा द्रुपद की सीने छावनी शहर में निवास करती थी। आज वहां रेजीमेंटस् हैं, एक राजपूत रेजीमेंट और सिखलाई रेजीमेंट है। सांसद ने फर्रुखाबाद को हिंदू और जैन धर्म के लिए बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए कहा है कि जैन धर्म के प्रथम थीर्थंकर ऋषभ देव ने यहां पहला उपदेश दिया और 13वें तीर्थंकर भगवान विमलनाथ जी के चारों कल्याण गर्भ, जन्म, शिक्षा, और ज्ञान भी यहीं हुए थे। महात्मा गौतम बुद्ध का स्वर्गावातरण भी विश्व प्रसिद्ध संकिसा में हुआ था। संकिसा में श्रीलंका, कंबोडिया, थाईलैंड, वर्मा, जापान आदि कई देशों के बड़े बड़े बौद्ध विहार बने हुए हैं। काशी की तरह यहां भी गली-गली में शिवालय होने के कारण इस नगर को अपराकाशी के नाम से भी जाना जाता है। कलयुग के हनुमान कहे जाने वाले बाबा नीमकरोरी महाराज जी की तपोस्थली भी इसी जनपद में है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: RCB ने राजस्थान को जीत के लिए दिया 158 रनों का लक्ष्यपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.