विवेक तिवारी के बाद अब पुलिस ने एक और युवक को उतारा मौत के घाट, मौके से भागे, सपा ने दिया बड़ा बयान

विवेक तिवारी के बाद अब पुलिस ने एक और युवक को उतारा मौत के घाट, मौके से भागे, सपा ने दिया बड़ा बयान

Abhishek Gupta | Publish: Oct, 13 2018 11:15:04 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

विवेक तिवारी हत्याकांड को लेकर पुलिस की कम किरकिरी नहीं हो रही थी कि फर्रुखाबाद में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है।

फर्रुखाबाद. विवेक तिवारी हत्याकांड को लेकर पुलिस की कम किरकिरी नहीं हो रही थी कि फर्रुखाबाद में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जिसमें पुलिस ने एक युवक को इतना मारा कि उसकी मौत ही गयी। मृतक भाजपा नेता का भाई बताया जा रह है। और इसके लेकर सियासित गर्म हो गई है। समाजवादी पार्टी ने भी कड़ी निंदा करते हुए यूपी पुलिस को कटघरे में खड़ा किया है।

ये भी पढ़ें- विवेक तिवारी हत्याकांड मामले में सिपाहियों को मिली माफी, दी warning और वापस बुलाया ड्यूटी पर, मामले में हुआ बड़ा उलटफेर

बाइक सवार पुलिस वालों ने युवक की जमकर की पिटाई, मौके से भागे-

शहर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला दरीवा पश्चिम निवासी राजीव उर्फ़ रामू पाण्डेय (28) पुत्र पुत्तु लाल पाण्डेय अपने साथी जीतू यादव पुत्र राकेश यादव निवासी सुनार गली जटवारा के साथ बाइक से थाना शमसाबाद थाना क्षेत्र के ग्राम अददुपुर गया था। जीतू ने बताया कि वह बाइक से गांव अददुपुर से निकले ही थे की तभी सामने से बाइक से आये दो पुलिस कर्मियों ने उसकी बाइक में जोरदार टक्कर मार दी। गुस्साएं पुलिसकर्मी ओपी व धर्मेन्द्र ने राजीव के साथ जमकर मारपीट कर दी। जिसके बाद पुलिसकर्मी राजीव को मौके पर ही गंभीर हालत में छोड़ उसकी बाइक लेकर चौकी चले गये। पुलिस कर्मी फैजबाग़ चौकी पर तैनात बताये जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- सपा नेता ने उठाई बंदूक और चला दी खुद पर गोली, सुसाइड नोट में अपने क्रिया क्रम और रुपयों को लेकर लिखी हैरान करने वाली बात, यूपी पुलिस के उड़े होश

भाजपा नेताओं ने लगाया जाम-

जीतू ने घटना की सूचना प्रधान अददुपुर रामू यादव को दी। हालत ज्यादा गम्भीर होने पर प्रधान उसे एक कार से आवास विकास के एक निजी अस्पताल में लेकर आये। जंहा उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर बीजेपी नेता प्रांशु दत्त द्विवेदी, नंदी सेना प्रमुख विक्रांत अवस्थी आदि लोग भी मौके पर आ गये। विक्रांत अवस्थी ने साथियों के साथ आवास विकास तिराहे पर जाम लगा दिया। भाजयुमो नेता शिवम् दुबे, हिन्दू महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश मिश्रा, अंकित तिवारी आदि लोहिया अस्पताल पंहुचे। घटना की सूचना पर एएसपी त्रिभुवन सिंह, प्रभारी निरीक्षक राजेश पाठक आदि मौके पर आ गये।

एएसपी व कोतवाल से भीड़ की तीखी नोकझोंक हो गयी। अस्पताल में खड़े प्रांशु ने एएसपी से वार्ता की। जिस पर उन्होंने कार्यवाही का भरोसा दिया। पुलिस शव को लेकर लोहिया अस्पताल पंहुची। जंहा राजीव को पुन: चेक किया गया। चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। एएसपी ने बताया की जाँच की जा रही है। तहरीर के आधार पर जाँच कर कार्यवाही की जायेगी। घटना के बाद ए एसपी त्रिभुबन सिंह मामले को दबाने में जुटे हैं।

सपा ने कहा- मृतक के परिवार को मिले 20 लाख मुआवजा-

सपा के आधिकारिक ट्विटर पर इसी घटना की घोर निंदा की गई। इसमें कहा गया कि फर्रूखाबाद में पुलिस की पिटाई से भाजपा नेता के भाई की मौत दुखद है। ये भाजपा सरकार की विनाश नीति का परिणाम हैं। सुरक्षा एवं सहायक की भूमिका निभाने वाली यूपी पुलिस अब डर का पर्याय बनती जा रही है। मामले की जाँच करा दोषियों पर हो कार्रवाई। 20 लाख ₹ मुआवज़े की माँग।

Ad Block is Banned