छात्र को शिक्षक ने बेरहमी से पीटा, मुकदमा नहीं दर्ज कर रही पुलिस, पिता ने परिवाद किया दायर

Abhishek Gupta

Publish: Oct, 12 2017 06:53:13 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
छात्र को शिक्षक ने बेरहमी से पीटा, मुकदमा नहीं दर्ज कर रही पुलिस, पिता ने परिवाद किया दायर

कायमगंज कोतवाली क्षेत्र के गांव भगौतीपुर में स्थापित प्राथमिक विद्यालय में कक्षा एक में पढ़ने वाले अनुराग की पिछले माह 28 तारीख को जमकर पिटाई की गई थी।

फर्रुखाबाद. कायमगंज कोतवाली क्षेत्र के गांव भगौतीपुर में स्थापित प्राथमिक विद्यालय में कक्षा एक में पढ़ने वाले अनुराग की पिछले माह 28 तारीख को जमकर पिटाई की गई थी। जिससे उसके शरीर पर चोटो के निशान आज भी दिखाई दे रहे हैं। जब उसने घटना की जानकारी अपने पिता फतेहसिंह को दी तो उन्होंने कोतवाली में उस शिक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए तहरीर दी थी, लेकिन काफी दिन गुजरजाने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की है। पीड़ित के पिता ने थाने के कई चक्कर लगाए, लेकिन पुलिस के कानों में जूं तक नहीं रेंगी, तो आज उन्होंने कोर्ट में आरोपी शिक्षक के खिलाफ परिवाद दर्ज कराया है। जिससे उनको न्याय मिल सके।

शक ने क्यों शिक्षक को बना दिया हैवान-
पेन्सिल चोरी करने के शक में शिक्षक ने एक मासूम छात्र को बेरहमी से पीटा। जिससे भयभीत छात्र ने स्कूल छोड़ दिया। परिजनों ने कोतवाली पुलिस से शिकायत की। लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। तब वह आरोपी शिक्षक के खिलाफ मुकदमा लिखाने हेतु न्यायालय की शरण में गये। क्षेत्र के गांव भगौतीपुर निवासी फतेहचन्द्र शाक्य का लगभग छः वर्षीय पुत्र अनुराग गांव के प्राथमिक विद्यालय में कक्षा एक में पढ़ता है।

फतेहचन्द्र के अनुसार 27 सितम्बर को उसका पुत्र स्कूल में पढ़ने गया था। जहां एक छात्र की पेन्सिल चोरी हो गई थी। शिक्षक कर्मवीर सिंह ने इस छात्र को पेन्सिल चोरी के शक में बेरहमी से पीटा। जब फतेहचन्द्र शिक्षक से शिकायत करने गया तो उसने उसे भी फटकार लगा दी। छात्र आज भी काफी भयभीत है। फतेहचन्द्र जब कोतवाली में रिपोर्ट लिखाने गया तो पुलिस ने उसे बैरंग वापस भेज दिया। निराश होकर वह न्यायालय की शरण में चला गया।

आखिर उस शिक्षक ने उस 6 वर्षीय युवक को किस बात को लेकर इतना पीटा जिससे उसके परिजनों को पुलिस से लेकर कोर्ट तक पहुंचने पर मजबूर होना पड़ा। यह जानकारी छात्र अनुराग की माँ रामलली ने कहा कि यदि मेरे बेटे ने कोई गलती की थी तो उसको इतना नहीं मारना चाहिए था। आखिर वह नासमझ बच्चा है। जिस बेदर्दी से शिक्षक कर्मवीर ने मारा है। इतना कोई अपने बच्चे को भी नहीं मारता है।

जब पुलिस को तहरीर दी गई तो क्या पुलिस ने उसकी जांच थाने में ही बैठ कर ली है। या तो उस शिक्षक से कुछ सहायता शुल्क वसूल लिया हो। उसी वजह से कोई कार्यवाही नहीं की हो। देखना यह होगा कि क्या कोर्ट के माध्यम से अनुराग के माता-पिता को न्याय मिल पायेगा। क्योंकि उसकी जांच भी पुलिस ही करेगी। अभी पिछले महीने ही थाना जहानगंज क्षेत्र के गांव पकरिया में छात्र के साथ एक घटना घटी थी उसमें शिक्षकों की बहुत ही बड़ी लापरवाही नजर आई थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned