ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर रसीदपुर गांव की उठाई आवाज

कहा- यदि उनके साथ न्याय नहीं किया गया तो वे लोग उग्र आंदोलन छेड़ने को मजबूर होंगे।

By:

Published: 11 Dec 2017, 10:34 PM IST

फर्रुखाबाद. कासगंज रेल प्रखंड पर हरसिंहपुर रेलवे स्टेशन के मध्य रसीदपुर गांव के पास रेल क्रासिंग बंद किए जाने का मामला गरमा गया है। आस पास के आधा दर्जन से अधिक ग्रामीण विरोध में लामबंद हो गए हैं। आधा सैकड़ा से अधिक ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट में आवाज उठाते हुए रास्ता खुलवाए जाने की मांग उठाई।

डीएम को सिफारिशी पत्र लिखा है

ग्रामीणों ने एक स्वर होकर कहा कि यदि उनके साथ न्याय नहीं किया गया तो वे लोग उग्र आंदोलन छेड़ने को मजबूर होंगे। सांसद ने भी ग्रामीणों की पैरवी में डीएम को सिफारिशी पत्र लिखा है। ऐसे में रेलवे क्रासिंग को खोला जाना जरूरी है। ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि रेलवे क्रासिंग को नहीं खोला गया तो वे लोग उग्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे। ग्रामीणों ने रेलवे समपार संख्या 159सी को तुरंत खुलवाए जाने की मांग उठाई है या फिर यहां पर अंडर पास के निर्माण की मांग की।

ग्रामीणों ने जाम लगाया था

हरसिंहपुर रेलवे स्टेशन के निकट रेलवे समपार संख्या 159सी को एक दिन पहले पूरी तौर पर बंद कर दिया गया था। इसको लेकर ग्रामीणों ने जाम लगाया था। फिर भी रेलवे अधिकारियों ने कोई सुनवाई नहीं की। इससे नाराज गंगोली, रशीदपुर, टीका नगला, किसानन नगला, गूजरपुर, महमदपुर, नगला बेनी, लोहापानी, बीसलपुर आदि के ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर अपनी आवाज उठाई। ग्रामीणों का कहना है कि रेलवे क्रासिंग बंद होने से गांव के लोगों की रास्ता बंद हो गई है। अब उनके सामने यह समस्या है कि वे कहां से निकलें।

...तो वे लोग उग्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे

ऐसे में रेलवे क्रासिंग को खोला जाना जरूरी है। ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि रेलवे क्रासिंग को नहीं खोला गया तो वे लोग उग्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे। ग्रामीणों ने रेलवे समपार संख्या 159सी को तुरंत खुलवाए जाने की मांग उठाई है या फिर यहां पर अंडर पास के निर्माण की मांग की। डीएम दफ्तर के बाहर धरने पर बैठे ग्रामीणों को सिटी मजिस्ट्रेट ने समझाया। इस दौरान राजेश, राजेंद्र, सतेंद्र, जगदीश, प्रताप सिंह, समर सिंह, राजकुमार, रामनिवास समेत दर्जनों लोग मौजूद रहे।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned