योगी सरकार पर भारी, अवैध खनन कारोबारी

योगी सरकार पर भारी, अवैध खनन कारोबारी
Illegal mining

Sarweshwari Mishra | Updated: 20 May 2019, 12:53:48 PM (IST) Fatehpur, Fatehpur, Uttar Pradesh, India

फतेहपुर के गाजीपुर थाना क्षेत्र के देवलान मौरंग खद्यान का मामला है

फतेहपुर. यूपी के प्रदेश सरकार की अवैध खनन पर सख्ती को लेकर की जा रही तमाम कवायतों को खनन कारोबारी खुली चुनौती दे रहे हैं। ताजा मामला फतेहपुर के गाजीपुर थाना क्षेत्र के देवलान मौरंग खद्यान का है। जहां खुलेआम NGT के मानकों को ताक पर रखकर आधा दर्जन से अधिक वी पोकलैंड मशीनों से यमुना की बीच जलधारा से 25 से 30 फुट गहरे गढ्ढे कर रात दिन अवैध खनन बदस्तूर जारी है।


आपको बतादें की अभी दो दिन पहले ही जिला अधिकारी संजीव सिंह ने ललौली थाना क्षेत्र के कोर्रा कनक मौरंग खदान में किसानों की भूमिधरी जमीन से अवैध खनन किये जाने की शिकायत पर औचक छापेमारी की थी। छापे की कार्यवाही में जिलाधिकारी ने मौके से मिली चार पोकलैंड मशीनों सहित चार ओवरलोड ट्रकों को सीज किया था साथ ही क्षेत्रीय लेखपाल सहित दो लेखपालों को निलंबित करते हुए खदान को भी सीज किया था।


जिला प्रशासन द्वारा की गई इतनी बड़ी कार्यवाही के बाद भी यमुना की जलधारा से खनन कर रहे खदान संचालकों में कार्यवाही का कोई असर नहीं दिख रहा क्योंकि अगर असर होता तो देवलान मौरंग खदान का ये नजारा तो शायद न होता । वहीं यमुना नदी में हो रहे अवैध खनन के विरोध में मछुवा समुदाय के लोगों ने जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक ऑन लाइन इसकी शिकायत भी की है। अवैध खनन के चलते भुखमरी की कगार पर पहुंच चुके मछुवा समुदाय के लोगों को न्याय मिलता है या फिर कार्यवाही के नाम पर सिर्फ और सिर्फ आस्वासन ही हाथ लगेगा यह तो आने वाला वक़्त ही बतायेगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned