ऐसे चलता है यूपी का यह अस्पताल, एक ही नर्स बना देती ह सबकी हाजिरी

डॉक्टर और चिकित्साकर्मी रहते हैं अस्पताल से गायब, नर्स खुद बना देती है सबकी हाजिरी।

फतेहपुर. यूपी की स्वास्थ्य व्यवस्था भगवान भरोसे है। ये हम नहीं कह रहे हालात इस ओर खुद ब खुद इशारा कर रहे हैं। बानगी फतेहपुर जिले के असोथर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में देखने को मिली। यहां चिकित्सालय कर्मियों की मनमानी और लापरवाही इस कदर है कि कोई पूछने वाला नहीं। अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डॉक्टर समेत सारे कर्मचारियों की हाजिरी महज एक नर्स अपने साइन से बनाती है। वीडियो में नर्स को खुद फर्जी हाजिरी बनाते देखा जा सकता है।

 

यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर बड़े-बड़े दावे किये गए थे। पर इन दावों को अमली जामा पहनाने की जिम्मेदारी जिन चिकित्सा कर्मियों पर है उन्होंने लापरवाही की हद पार कर दी है। फतेहपुर के असोथर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में आने वाले मरीजों की शिकायत रहती है कि वहां न तो डॉक्टर मिलते हैं और न ही वार्ड ब्वाय व कंपाउंडर। लोग अस्पताल में आकर परेशान होते हैं।

 

 

यहां के डाक्टरों और कर्मचारियों शासन का कोई खौफ नहीं। मनमानी ऐसी कि जब चाहा ड्यूटी की और जब चाहा छुट्टी। लोगों का आरोप है कि कर्मचारी घर बैठकर मोटी तनख्वाह लेते हैं।

 

असोथर कस्बे के प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र पर जब हमारी टीम अचानक पहुंची और रियलिटी चेक किया तो वहां के कर्मचारियों की मनमानी का नमूना देखने को मिला। स्वास्थ विभाग में तैनात एक नर्स उन डॉक्टरों और कर्मचारियों की हाजिरी बना रही थी जो आए ही नहीं थे। इतना ही नहीं उसने यह कबूल भी किया कि किसके-किसके दस्तखत उसने बनाए हैं।

 

वहां की स्थिति देखकर यह कहना गलत नहीं होगा कि अस्पताल भगवान भरोसे चल रहा है। इलाके के लोगों का कहना है कि इस अस्पताल के डॉक्टरों व कर्मचारियों की मनमानी का सबसे बड़ा कारण यह है उनका मुख्यालय से दूर होना। इसके चलते उनको लगता है कि वहां चेकिंग करने कोई आलाधिकारी नहीं पहुंचेगा और इसके चलते मनमानी चरम पर रहती है। लोगों की मानें तो अस्पताल में डॉक्टर महीनों नहीं आते और आते भी हैं तो खानापूर्ती कर चले जाते हैं।

by  RAJESH SINGH

 

 

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned