गड्ढ़ा मुक्त सड़क के दावे पर फेल हुई योगी सरकार, फतेहपुर की 60 फीसदी सड़कों का बुरा हाल

गड्ढ़ा मुक्त करने के लिये गिराई गई गिट्टी, मगर निर्माण कार्य नहीं होने से परेशान हैं लोग

फतेहपुर. सूबे की योगी सरकार ने सत्ता में आने के बाद प्रदेश की सभी सड़कों को 15 जून तक गड्ढ़ा मुक्त करने का निर्देश दिया है, मगर योगी सरकार पर इस मुद्दे पर पूरी तरह फेल साबित हुई। यूपी की सड़कों पर आज भी गड्ढ़े हैं और इन सड़कों पर गड्ढों की वजह से आये दिन हादसे हो रहे हैं। सबसे बड़ी परेशानी उन सड़कों पर हो रही है, जहां आननफानन में गड्ढ़ा मुक्त करने के लिये गिट्टी गिरा ली गई, मगर निर्माण कार्य नहीं हो पाया।

यह भी पढ़ें:
बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह का अधिकारियों को निर्देश, गांव में जाकर किसानों को कृषि योजनाओं की जानकारी दें


सीएम योगी ने वक्त की जो मियाद दी थी वो 15 जून थी पूरी हो गई है। फतेहपुर शहर की 60 फीसदी सड़कों पर अगर आप चलेंगे तो शायद आपको इस बात का अंदाजा ही ना हो पाए कि सड़क गड्ढे में है या फिर गड्ढे में सड़क है। सड़कों की हालत इतने खराब हैं कि स्थानीय और व्यापारियों का जीना मुश्किल हो गया है। फतेहपुर की नऊवाबाग, जेल रोड़ समेत शहर के भीतर की सड़कों के हालत बहुत ही खराब हैं और इन खराब सड़कों के किराने रहने वाले स्थानीयों की माने तो इन सड़कों से सैकड़ों ट्रक रोजाना निकालते हैं...जिसके उड़ने वाली धूल लोगों को बीमार करने में लगी हुई है। यहां तक कि लोगों ने खराब सड़कों की वजह से अपने घरों में कांच की खिड़कियां तक लगवा रखी है जिससे उसका और उनके बच्चों का स्वास्थ्य ठीक रहे।



सड़क पूरी तरह से नहीं बन पाने की वजह से इन लोगों ने धूल से बचने की एक तरकीब निकाल ली है। ये लोग अपने-अपने घरों के साामने की सड़कों पर पानी भर देते हैं जिससे धूल उड़े और वो सुरक्षित रहे। हालांकि इस सबको लेकर स्थानीय लोगों में योगी सरकार के खिलाफ काफी गुस्सा भी है। लोगों का कहना है कि सरकार दावे तो बहुत करती है लेकिन उन दावों की जमीनी हकीकत बहुत ही जुदा है।
BJP
Show More
अखिलेश त्रिपाठी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned