किराये में बढ़ोतरी के बाद भी नहीं मिली सुविधा, खटारा बसों में सफर को मजबूर यात्री

Akhilesh Tripathi

Publish: Oct, 13 2017 02:14:41 (IST)

Fatehpur, Uttar Pradesh, India
किराये में बढ़ोतरी के बाद भी नहीं मिली सुविधा, खटारा बसों में सफर को मजबूर यात्री

किराये में बढ़ोतरी के बाद भी आम आदमी आज भी खटारा बसों में सफर करने को मजबूर है।

फतेहपुर. उत्तर प्रदेश परिवहन निगम अपनी घटिया सुविधाओं के लेकर हमेशा सुर्खियों में बना रहता है। आए दिन हो रही किराए में बढ़ोत्तरी के बाद भी परिवहन निगम की सेवायें सुधरने का नाम नहीं ले रही है। किराये में बढ़ोतरी के बाद भी आम आदमी आज भी खटारा बसों में सफर करने को मजबूर है। बता दें कि अभी चंद दिनों पहले किराए में 10 फीसदी की बढ़ोत्तरी भी की गई है।

 

यूपी रोडवेज आम लोगों के लिए यातायात का एक प्रमुख और सुगम साधन है, जिसे ज्यादातर लोग आने-जाने के लिए इस्तेमाल करते है, और इसके एवज में यात्रियों से अच्छा किराया भी वसूल किया जाता है, लेकिन इसके बावजूद सुविधाओं के नाम पर यात्रियों को केवल खटारा बसें ही मिलती है जिसमें ज्यादातर की सीट तक दुरुरस्त नहीं होती जिससे यात्रियों को खड़े-खडे ही सफर करना पड़ता है।

 

यह भी पढ़ें:

यूपी के संतकबीरनगर में दारोगा पर जानलेवा हमला, गंभीर हालत में अस्पताल में चल रहा इलाज

 

फतेहपुर रोडवेज में कुछ करीब 109 बसें हैं जिसमें कुछ का तो फिटनेस तक नहीं है मगर यह बसें बगैर फिटनेस के धड़ल्ले से सड़क पर फर्राटा भरती दिख रही है। ऐसी बसों से हादसा होने की संभावना भी ज्यादा है, मगर जिम्मेवार अधिकारियों को ध्यान इस तरफ नहीं है। फतेहपुर से कई खटारा बसें रोजाना सफर के लिये निकलती है जो लोगों को आसपास के जिले से जोड़ती है। इन बसों में सुरक्षा मानकों का भी ध्यान नहीं रखा गया है।

 

वहीं जब मामले में फतेहपुर के एआरएम से बात की तो उनका साफ कहना था कि जिन गाड़ियों का फिटनेस नहीं होता उनको रूट से हटा दिया जाता है। मगर परिवहन विभाग के अधिकारी जो दावे कर रहे हैं, हकीकत ठीक उसके विपरित है। बस स्टैंड में कई ऐसी बसें मिल जायेगी जो लगभग जर्जर हो चुकी है, मगर फिर भी यात्रियों की जान जोखिम में डालकर उन्हें चलाया जा रहा है।

 

By- Rajesh Singh

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned