इसरो की वो उपलब्धियां जिसने अंतरिक्ष की दुनिया के नक्शे पर भारत की बनाई पैठ

Hot on Web

इसरोः सफलता का नया नाम

1/6

नई दिल्ली। अंतरिक्ष की दुनिया में भारत का नाम जिस तेजी से बढ़ रहा है उससे साफ जाहिर होता है कि इस देश की बादलों के ऊपर की दुनिया में क्या महत्व है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने पिछले कुछ सालों में एक के बाद एक कई कारनामें किए हैं। पिछले कुछ सालों की सफलता को इसरो के एक लंबे इतिहास और काम के प्रति निष्ठा के बगैर सोच पाना भी मुश्किल है। इन सफलताओं के साथ-साथ विक्रम साराभाई, सतीश धवन और एपीजे अब्दुल कलाम जैसे काबिल और समर्पित लोगों के योगदान की भी ये कहानी है।

'मानव जाति की सेवा में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी' इस मोटो के साथ काम करने वाले इसरो के लगातार बढ़ते कदम ने दुनिया को इस भारतीय ताकत का एहसास करा ही दिया है। बुधवार को इसरो ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सेंटर से PSLV के जरिए एक साथ अंतरिक्ष में 104 उपग्रह को भेजकर इतिहास रच दिया। 104 उपग्रह को सफलतापूर्वक भेजकर भारत ने पिछले रिकॉर्ड को काफी पीछे छोड़ दिया। इससे पहले एक साथ 37 उपग्रह रूस ने भेजे थे।

आगे की स्लाइड में जानिए इसरो के ऐसे ही और कारनामें

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned