आश्विन अमावस्या : इस दिन होती है हर मनोकामना पूरी! कोई भी एक आसान उपाय अपनाएं

ठीक अगले दिन यानि 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र शुरू....

By: दीपेश तिवारी

Updated: 02 Oct 2020, 03:16 PM IST

साल 2020 में 18 सितंबर से शुरु हुए अधिक मास यानि पुरुषोत्तम मास का 16 अक्टूबर, शुक्रवार को समापन होने जा रहा है। दरअसल इस दिन आश्विन अमावस्या पड़ रही है और पंचांग के अनुसार यह दिन विशेष है। यानि इस दिन 16 अक्टूबर को पुरुषोत्तम मास समाप्त हो जाएगा। वहीं इसके ठीक अगले दिन यानि 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र शुरू हो जाएंगी।

इस दिन को पुरुषोत्तम माह की अमवस्या के नाम से जानते हैं। इसके साथ ही अधिकमास का महीना समाप्त हो जाएगा। जानकारों के अनुसार अमावस्या को पितृ की तिथि मानी जाती है, इसलिए इसका खास महत्व होता है। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार अमावस्या के दिन किए गए उपाय विशेष फलदायी होते हैं। वहीं यदि कोई जातक रोग, कष्ट आदि से परेशान है तो इस दिन महामृत्युंजय जप और अनुष्ठान कर हमेशा के लिए कष्टों से निजात प्राप्त कर सकता है, लेकिन इस दिन यह बात भी ध्यान देने की है कि अमावस्या के दिन कुछ कार्यों को करने से बचना ही चाहिए, तो कुछ कार्य अपनी सफलता को पुख्ता बनाने के लिए भी अवश्य करने चाहिए।

इस अमावस्या इन बातों का रखें खास ध्यान...

1. अमावस्या की रात सुनसान जगह पर ना जाएं :
माना जाता है कि अमावस्या की रात को भूत, पिशाच आदि नकारात्मक शक्तियां सक्रिय हो जाती हैं। अगर आपको श्मशान के रास्ते होकर जाना है तो अमावस की रात इस रास्ते पर कभी ना जाएं।

2. सुबह देर से ना उठें :
अमावस्या के दिन सुबह देर तक ना सोएं। सुबह-सुबह स्नान कर सूर्य को जल चढ़ाएं और भगवान विष्णु की पूजा करें।

3. विवाद और झगड़े से बचें :
अमावस्या के दिन लड़ाई झगड़ा ना करें। दरअसल ऐसा माना जाता है कि अमावस्या की रात हमारे पितृ आसपास ही होते हैं और हमें आर्शीवाद देने आते हैं। ऐसे में यदि घर में या घर से बाहर वाद-विवाद करते हैं तो पितरों की कृपा नहीं होती।

4. मांस-मदिरा का सेवन :
अमावस्या के दिन मांस मदिरा का सेवन भूल कर भी नहीं करनी चाहिए, अगर आप नशा करते हैं तो आज के दिन भूल कर भी नशा ना करें।

5. प्रेम संबंध :
अमावस्या के दिन संबंध ना बनाएं। गरुण पुराण के अनुसार अमावस्या पर संबंध बनाने से पैदा होने वाली संतान जीवन में कभी भी सुखी नहीं रह पाती है।

वहीं पंडितों व ज्योतिष के जानकारों की मानें तो हिन्दू धर्म में अमावस्या की रात का खास महत्व है, खासतौर से अधिकमास यानि पुरुषोत्तम मास में आने वाली अमावास्या को कई परेशानियों और दुखों के निवारण का दिन माना जाता है। इस दिन किया गया खास उपाय जातक के जीवन को आसान बना सकता है...

कोई भी एक उपाय अपनाएं और हर मनोकामना पूर्ण कराएं...
मान्यता है कि पुरुषोत्तम मास की इस अमावस्या को यदि कोई व्यक्ति गरीबों को दान करता है तो उसे जीवन में कभी धन की कमी नहीं होती। गरीबों को दान देना और भोजन कराने वाले जातक को कभी शारीरिक परेशानी नहीं होती।
पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इस दिन कुछ असान उपायों में से यदि कोई व्यक्ति कोई भी एक उपाय कर लें तो माना जाता है कि वह हमेशा के लिए अपनी आर्थिक और शारीरिक परेशानियों से आजाद हो सकता हैं। जानें कौन से हैं वह उपाय:

: अगर आप आर्थिक रूप से बहुत ज्यादा परेशान हैं और कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है तो आज पुरुषोत्तम मास की अमावस्या के दिन स्नान कर भगवान का नाम लेते हुए आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाएं। इन गोलियों को मछलियों को खिला दें। आपकी सारी परेशानी दूर हो जाएगी।

: चीटियों का भी इस दिन खास महत्व होता है। इस दिन यदि उन्हें मीठा आटा खिलाया जाए यानी चीनी मिलाकर आटा खिलाएं तो सारे पाप खत्म हो जाते हैं। आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

: अगर आप कालसर्प दोष से परेशान हैं तो अमावस्या के दिन सुबह स्नान के बाद चांदी के बने नाग-नागि न की पूजा करें और सफेद फूल के साथ इसे बहते हुए पानी में प्रवाहित कर दें। आज के दिन गरीब को भोजन कराएं और दान दें शारीरिक कष्ट से निजात मिलेगा।

: इस शाम को घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक लगाएं। बत्ती में रूई के स्थान पर लाल रंग के धागे का उपयोग करें, साथ ही दीये में थोड़ी-सी केसर भी डाल दें। यह मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का उपाय है, इससे घर में कभी धन की कमी नहीं होगी।

: अगर आपकी नौकरी नहीं लग रही है या बेरोजगार हैं तो...
01 नींबू को साफ करके सुबह से ही अपने घर के मंदिर में रख दें। फिर रात के समय इसे 7 बार बेरोजगार व्यक्ति के सिर से उतार लें और 4 बराबर भागों में काट लें। फिर एक चौराहे पर जाकर चारों दिशाओं में इसको फेंक दें। माना जाता है कि इस उपाय से बेरोजगार व्यक्ति को लाभ की संभावना बनेगी।

अमावस्या का महत्व : Importance of Amavasya
ज्योतिष शास्त्र और धार्मिक दृष्टिकोण से अमावस्या बहुत महत्वपूर्ण होती है। पुराणों के अनुसार इस दिन का पितृ दोष से मुक्ति पाने के लिए विशेष महत्व होता है क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह दिन तर्पण, स्नान, दान आदि के लिए बहुत पुण्य और फलदायी होता है। दीपावली जो कि हमारे देश का प्रसिद्ध त्यौहार है उसे भी अमावस्या के दिन ही मनाया जाता है। अमावस्या की तिथि को ही सूर्य पर ग्रहण लगता है। यह तिथि कालसर्प दोष से पीड़ित जातक की मुक्ति के उपाय के लिए भी असरदार मानी जाती है।

हिन्दू मान्यताओं में बहुत महत्व रखने वाला यह दिन शुभ व अशुभ हो सकता है। अमावस्या से शुरू होने वाले पक्ष को शुक्ल पक्ष कहा जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ के महीने (जनवरी-फरवरी) में आने वाली अमावस्या जिस हम मौनी अमावस्या के नाम से जानते हैं जो कि वह बेहद शुभ होता है।

आमतौर पर देखा जाए तो अमावस्या को किसी भी अच्छे कार्य को करने के लिए शुभ नहीं माना जाता है लेकिन वहीं अगर हम आध्यात्मिक तौर पर देखें तो अमावस्या का खास महत्व होता है। पुराणों में ऐसा कहा गया है कि इस दिन अपने पूर्वजों को याद कर पूजा करने और गरीबों को दान देने से मनुष्य के पापों का नाश होता है। कई श्रद्धालु अमावस्या के दिन पवित्र जल से स्नान कर उपवास भी रखते है।

वैसे तो सभी अमावस्या को एक समान माना जाता है लेकिन सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या जिसे हम सोमवती अमावस्या कहते हैं वो अन्य अमावस्या की तुलना में इस विशेष महत्व रखता है।

अमावस्या के दिन किए जाने वाले अन्य उपाय...
: अगर संभव हो तो अमावस्या के दिन किसी पवित्र नदी में जा कर स्नान करें या फिर अपने नहाने के पानी में गंगा जल मिलाएं।
: पुरुषोत्तम मास की इस अमावस्या के दिन सुबह समय पर उठ जाएं और स्नान आदि करने के बाद हनुमान जी का पाठ करें और उन्हें लड्डू का भोग लगाएं। यदि आप पाठ नहीं कर पा रहे तो हनुमान बीज मंत्र का जाप भी कर सकते हैं। आप पूजा करते समय हनुमान जी के सामने चमेली के तेल का दिया जलाएं।
: घर में पूजा करने के अलावा आप मंदिर जाएं और अन्न का दान करें। अन्न दान को हिन्दू धर्म में बहुत बड़ा पुण्य माना गया है और यदि इस कार्य को अमावस्या के दिन किया जाए तो यह और भी शुभ होता है।
: इस दिन शनि देव को तेल का दान करें। साथ में आप काली उड़द और लोहा भी दान कर सकते है।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned