हिंगलाज माता जयंती : हिंदू से ज्यादा मुस्लिम श्रद्धालु टेकते हैं माता के दरबार में मत्था, भर जाती है सबकी झोली

माँ हिंगलाज जयंती 22 मार्च 2020 को मनाई जाएगी

Shyam Kishor

21 Mar 2020, 04:05 PM IST

प्रतिवर्ष चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को माँ हिंगलाज की जयंती मनाई जाती है। इस साल 2020 में 22 मार्च दिन रविवार को हिंगलाज माता की जयंती पर्व है। हिंदू धर्म का भव्य माता हिंगलाग का मंदिर पाकिस्तान के बलूचिस्तान राज्य के हिंगलाज में हिंगोल नदी के किनारे पर स्थापित है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां हिंदू श्रद्धालु से ज्यादा मुस्लिम धर्म के श्रद्धालु मत्था टेकने जाते हैं। मान्यता है की यहां आने वाले भक्तों की सभी कामनाएं पूरी हो जाती है।

कालसर्प दोष से मुक्ति का सबसे सरल उपाय, अपने घर में ही कर लें

पाकिस्तान स्थित हिंगलाज मन्दिर के बारे में कहा जाता है यह मंदिर देवी माँ के 21 सिद्ध शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ है। यहां विराजन माता को हिंगलाज माता और हिंगुला देवी के नाम से भी पूजा जाता है। हिंगलाज माता के इस मन्दिर को नानी मन्दिर के नामों से भी जाना जाता। जहां हिंगलाज गुफा बनी है, वहां पर शिव, पार्वती एवं गणेश नामक तीन ज्वालामुखी भी है।

हिंगलाज माता जयंती : हिंदू, मुस्लिम सब टेकते हैं माता के दरबार में मत्था, भर जाती है सबकी झोली

शास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि पाकिस्तान स्थित हिंगलाज माता के इस मंदिर में त्रेतायुग में भगवान राम ने भी दर्शन किए थे। भगवान राम के अलावा माता हिंगलाज के इस मंदिर में गुरु गोरखनाथ, गुरुनानक देव, दादा मखान जैसे कई और आध्यात्मिक संत भी दर्शन करने गए थे। हिंगलाज माता के मंदिर के आस-पास, गणेश देव, माता काली, गुरुगोरख नाथ दूनी, ब्रह्म कुध, तिर कुण्ड, गुरुनानक खाराओ, रामझरोखा बेठक, चोरसी पर्वत पर अनिल कुंड, चंद्र गोप, खारिवर और अघोर पूजा जैसे कई अन्य पूज्य स्थल हैं।

चैत्र नवरात्रि : मनचाही कामना पूर्ति के लिए माँ दुर्गा को लगाएं केवल यही भोग

विशेषकर नवरात्रि के दिनों में हिंगलाज माता मंदिर में लगभग हजारों श्रद्धालु 500 किमी की कठिन पैदल यात्रा करके सभी धर्मों के माता का आशीर्वाद लेने आते हैं। हिंगलाज मंदिर में माता हिंगलाज एक शिला के रूप में विराजमान है, माता के इस भव्य मंदिर में एक भी दरवाजा नहीं लगा है। इस मंदिर में हिंदू श्रद्धालु से ज्यादा मुस्लिम श्रद्धालु अपनी खाली झोली भरने के लिए माता का आशीर्वाद लेने आते हैं।

*****************

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned