कामदा एकादशी व्रत : पूजा विधि एवं शुभ मुहूर्त

कामना पूर्ति के लिए जरूर कामदा एकादशी व्रत

By: Shyam

Published: 03 Apr 2020, 05:13 PM IST

इस साल 2020 में कामदा एकादशी तिथि 4 अप्रैल दिन शनिवार को हैं। कामदा एकादशी के दिन व्रत रखने से व्रती की सभी कामनाएं पूरी हो जाती है। कामदा एकादशी व्रत हर साल चैत्र मात्र के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को होती है। जानें कामदा एकादशी व्रत का शुभ मुहूर्त एवं पूजा विधि।

पूजन विधि

1- कामदा एकादशी के दिन पूर्ण शुद्ध होकर हाथ में जल व अक्षत लेकर व्रत पूजा करने का संकल्प लें।

2- कामदा एकादशी के दिन भगवान श्री विष्णु जी की पूजा इच्छित फल की प्राप्ति के लिए करना चाहिए। पूरे दिन उपवास रहकर शाम को दीप दान भी करना चाहिए।

3- कामदा एकादशी का व्रत रखने वाले व्रत से पूर्व यानी दशमी के दिन एक ही वक्त वह भी सात्विक भोजन करके उसी दिन से द्वादशी तिथि तक संयमित और ब्रह्मचर्य के नियम का पालन करना चाहिए।

4- कामदा एकादशी के दिन पंचामृत से भगवान विष्णु का स्नान कराकर षोडशोपचार विधि से पूजन करना चाहिए।

5- कामदा एकादशी व्रत के अगले दिन गरीबों को भोजन कराकर, यथा समर्थ दान-दक्षिणा भी देना चाहिए।

चैत्र कामदा एकादशी का व्रत ऐसे करता है समस्त कामनाओं की पूर्ति

कामदा एकादशी व्रत पूजा शुभ मुहूर्त

1- तिथि का शुभारंभ- 4 अप्रैल को प्रातःकाल सूर्योदय से पूर्व ही आधी रात से लग जाएगी।

2- तिथि का समापन- एकादशी तिथि का समापन 4 अप्रैल को ही रात 10 बजकर 30 मिनट पर लग जाएगा।

शनिवार को ऐसे कृपा करते हैं भगवान हनुमान जी

कामदा एकादशी तिथि के दिन इन चार काम को भूलकर भी नही करें।

1- पान खाना- एकादशी तिथि के दिन पान खाना भी वर्जित माना गया है, इस दिन पान खाने से व्यक्ति के मन में रजोगुण की प्रवृत्ति बढ़ती है।

2- हिंसा करना- कामदा एकादशी के दिन हिंसा करना महापाप माना गया है। हिंसा केवल शरीर से ही नहीं मन से भी होती है। इससे मन में विकार आता है। इसलिए शरीर या मन किसी भी प्रकार की हिंसा इस दिन नहीं करनी चाहिए।

3- चोरी करना- चोरी करना पाप कर्म माना गया है, चोरी करने वाला व्यक्ति परिवार व समाज में घृणा की नजरों से देखा जाता है। इसलिए एकादशी तिथि को चोरी जैसा पाप कर्म नहीं करना चाहिए।

4- कामदा एकादशी पर स्त्रीसंग करना भी वर्जित है क्योंकि इससे भी मन में विकार उत्पन्न होता है और ध्यान भगवान भक्ति में नहीं लगता। अतः ग्यारस के दिन स्त्रीसंग नहीं करना चाहिए।

**************

कामदा एकादशी व्रत : पूजा विधि एवं शुभ मुहूर्त
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned