आज से शुरु हुआ माघ मास, इस एक उपाय से प्रसन्न होंगे लक्ष्मी-विष्णुजी, भर देंगे आपके घर-भंडार

शास्त्रों में कहा गया है कि यदि सकामभाव से माघ स्नान किया जाए तो उससे मनोवांछित फल की सिद्धि होती है

By: सुनील शर्मा

Published: 02 Jan 2018, 02:21 PM IST

पौष मास की पूर्णिमा से आरम्भ होकर माघ पूर्णिमा तक चलने वाला माघ स्नान अति पुण्य प्रदान करने वाला माना गया है। पवित्र माघ स्नान मेला 2 से 31 जनवरी तक प्रयाग में आयोजित किया जाएगा। प्रयाग में हर वर्ष लगने वाले इस मेले को कल्पवास भी कहा जाता है। माघ स्नान करने वाले मनुष्यों पर भगवान विष्णु प्रसन्न रहते है तथा उन्हें सुख-सौभाग्य, धन-संतान और मोक्ष प्रदान करते हंै। यदि सकामभाव से माघ स्नान किया जाए तो उससे मनोवांछित फल की सिद्धि होती है और निष्काम भाव से स्नान करने पर मोक्ष देने वाला होता है ऐसा शास्त्रों में कहा गया है।

आराधना से होंगे नारायण प्रसन्न
महाभारत के अनुशासन पर्व में माघ माह के स्नान, दान, उपवास और माधव पूजा का महत्त्व बताते हुए कहा गया है कि इन दिनों में प्रयागराज में अनेक तीर्थों का समागम होता है इसलिए जो प्रयाग या अन्य पवित्र नदियों में भी भक्तिभाव से स्नान करते हैं, वह तमाम पापों से मुक्त होकर स्वर्गलोक के अधिकारी हो जाते है। इस माह के महत्त्व पर तुलसीदास जी ने श्री रामचरित्र मानस के बालखंड में लिखा है। माघ स्नान से शरीर के पाप जलकर भस्म हो जाते है। इस मास में पूजन-अर्चना व स्नान करने से भगवान नारायण को प्राप्त किया जा सकता है।

प्रयाग में 3 बार स्नान फलदायी
माघ स्नान का उत्तम समय सूर्योदय से पूर्व माना जाता है। कहते हैं कि ब्रह्मा, विष्णु, महेश, आदित्य तथा अन्य सभी देवी-देवता माघ में संगम स्नान करते हैं। प्रयाग में माघ मास में तीन बार स्नान करने का फल दस हजार अश्वमेघ यज्ञ से भी ज्यादा होता है। पदमपुराण के अनुसार पूजा, तपस्या, यज्ञ आदि से भी श्री हरि को उतनी प्रसन्नता नहीं होती, जितनी कि माघ महीने में प्रात: स्नान कर भगवान सूर्य को अघ्र्य देने से होती है। इसलिए सभी पापों से मुक्ति और भगवान वासुदेव की प्रीति प्राप्त करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को माघ स्नान कर सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य को अघ्र्य अवश्य प्रदान करना चाहिए।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned