scriptNavratri 2017 How to worship Ma Shailputri and mantra tone totke hindi | नवरात्रि के पहले दिन होगी मां शैलपुत्री की पूजा, ऐसे करें आराधना | Patrika News

नवरात्रि के पहले दिन होगी मां शैलपुत्री की पूजा, ऐसे करें आराधना

शारदीय नवरात्रि 21 सितंबर 2017 से आरंभ हो रहे हैं

Updated: September 20, 2017 03:23:08 pm

शारदीय नवरात्रि 21 सितंबर 2017 से आरंभ हो रहे हैं। नवरात्रि के इन नौं दिनों में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा कर उनसे मनवांछित कामना की इच्छा पूरी की जा सकती है। नवरात्रों में प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। यह मां पार्वती का ही अवतार है। दक्ष के यज्ञ में भगवान शिव का अपमान होने के बाद सती योगाग्नि में भस्म हो गई थी जिसके बाद उन्होंने हिमालय के घर पार्वती के रूप में जन्म लिया। पर्वत की पुत्री होने के कारण उन्हें शैलपुत्री कहा जाता है।
Mother Shailputri, navratri 2017, navratri ke totke, navratri ke upay, dharma kama
सर्वप्रथम स्नान कर पूजा के स्थान पर कलश स्थापना करें। इसके बाद मां शैलपुत्री की प्रतिमा या चित्र (शैलपुत्री का चित्र/ प्रतिमा उपलब्ध न होने पर मां पार्वती का चित्र/ प्रतिमा काम में ली जा सकती है) को स्नान कर, फूलमाला चढ़ाएं। देशी घी का दीपक जलाएं, धूपबत्ती जलाएं और प्रसाद में मीठा रखें। यदि मिठाई ना हो तो मिश्री प्रयोग कर सकते हैं। इसके बाद मां के सहस्त्रनाम का जाप करें। इसके बाद मां के निम्न मंत्र की कम से कम 108 बार जप करें।
यह भी पढें: शैलपुत्री माता का इकलौता मंदिर, ऐसी होती है आरती

यह भी पढें: नवरात्रि के ये टोटके बदल देंगे आपकी किस्मत

मां शैलपुत्री की पूजा का मंत्र निम्न प्रकार है-
वन्दे वांछितलाभाय चन्दार्धकृतशेखराम्।
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌।।
पूणेंदुनिभांगौरी मूलाधार स्थितांप्रथम दुर्गा त्रिनेत्रा।
पटांबरपरिधानांरत्नकिरीटांनानालंकारभूषिता॥
प्रफुल्ल वदनांपल्लवाधरांकांतकपोलांतुंग कुचाम्।
कमनीयांलावण्यांस्मेरमुखीक्षीणमध्यांनितंबनीम्॥

यह भी पढें: नवरात्रि में इन 6 में से कोई भी एक चीज घर पर लाएं, दूर होंगी सब समस्याएं

यह भी पढें: गुरुवार के दिन करें ये अचूक उपाय, धन वर्षा के साथ प्रेम संबंध के भी योग ? बनेंगे
यह भी पढें: नवरात्रि में ऐसे करें घटस्थापना और दुर्गासप्तशती का पाठ

शैलपुत्री अपने भक्त के लिए मां की करूणा, दया और स्नेह का सागर हैं। इनका आशीर्वाद भक्त साधक को सर्वशक्तिमान बना देता है। उस साधक को अन्य किसी सहायता की आवश्यकता नहीं होती है। वह स्वयं ही देवतुल्य होकर दूसरों को वर देने में सक्षम हो जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Mukhtar Abbas Naqvi ने मोदी कैबिनेट से दिया इस्तीफा, बनेंगे देश के नए उपराष्ट्रपति?काली पोस्टर विवाद में घिरीं महुआ मोइत्रा के समर्थन में आए थरूर, कहा- 'हर हिन्दू जानता है देवी के बारे में'यूपी को बड़ी सौगात, काशी को 1800 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात देंगे पीएम Modi, बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का करेंगे लोकार्पणDelhi Shopping Festival: सीएम अरविंद केजरीवाल का बड़ा ऐलान, रोजगार और व्यापार को लेकर अगले साल होगा महोत्सवशिखर धवन बने टीम इंडिया के नए कप्तान, वेस्टइंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम का हुआ ऐलानकौन हैं डॉ. गुरप्रीत कौर, जो बनने जा रही हैं भगवंत मान की दुल्हनिया? सामने आई तस्वीरसलमान के वकील को लॉरेंस गुर्गों की धमकी, मूसेवाला हाल करेंगेDGCA का SpiceJet को कारण बताओ नोटिस, 18 दिनों में 8 बार आई प्लेन में खराबी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.