Navratri: आज करें तांबे के सिक्के का यह उपाय, मां चंद्रघंटा दूर कर देंगी हर समस्या

Navratri: आज करें तांबे के सिक्के का यह उपाय, मां चंद्रघंटा दूर कर देंगी हर समस्या

Tanvi Sharma | Publish: Apr, 08 2019 12:26:52 PM (IST) | Updated: Apr, 08 2019 12:26:53 PM (IST) त्यौहार

आज करें तांबे के सिक्के का यह उपाय, मां चंद्रघंटा दूर कर देंगी हर समस्या

नवरात्रि का तीसरा दिन देवी दुर्गा के तीसरे स्वरुप मां चंद्रघंटा की आराधना का दिन होता है। यह दिन मां की आराधना कर उनसे भय मुक्ति और अपार साहस प्राप्त करने का होता है। क्योंकि मां का यह स्परुप अत्यंत शांतिदायक और कल्याणकारी है। मां के इस स्वरुप में उनके सर पर घंटे के आकार का चन्द्रमा है। इसलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है। मां चंद्रघंटा के दस हाथ हैं। वे अपने हाथों में खड्ग और अन्य अस्त्र-शस्त्र लिए हैं। सिंह पर सवार देवी मां की मुद्रा युद्ध के लिए उद्धत है। माता के घंटे की ध्वनि से दानव, दैत्य व राक्षस सभी कांपते हैं।

maa chandraghanta

मां चंद्रघंटा की इस विधि से करें पूजा

मां चंद्रघंटा की पूजा लाल वस्त्र धारण करके करना श्रेष्ठ होता है। मां को लाल पुष्प, रक्त चन्दन और लाल चुनरी समर्पित करना उत्तम होता है। इनकी पूजा से मणिपुर चक्र मजबूत होता है। इस दिन पूजा करने से अद्भुत शक्तियों की अनुभूति होती है, दिव्य सुगंधियों का अनुभव होता है और कई तरह की आवाजें सुनाईं देती हैं जिनपर ध्यान ना देते हूए व्यक्ति को साधना पर ध्यान देना चाहिए। मां चंद्रधंटा की आराधना से जातक को वीरता और निर्भयता के साथ ही सौम्यता और विनम्रता भी प्राप्त होती है। मां की आराधना में इस मंत्र का जप भी करना चाहिए।

मां की उपासना के बाद जपें ये मंत्र

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥

maa chandraghanta

नवरात्रि के तीसरे दिन मंगल की समस्याओं के निवारण के लिए करें ये उपाय

  • जिस किसी जातक की कुंडली में मंगल कमजोर है या उसे मंगल दोष है तो नवरात्रि के तीसरे दिन विशेष पूजा करके उसका निवारण कर सकते हैं।
  • मां को लाल फूल , ताम्बे का सिक्का या ताम्बे की वस्तु और हलवा या मेवे का भोग लगाएं।
  • पहले मां के मंत्र का जाप करें उसके बाद मंगल के मूल मंत्र "ॐ अँ अंगारकाय नमः" का जाप करें।
  • मां को अर्पित किये गए तांबे के सिक्के को अपने पास रख लें और चाहें तो इस सिक्के में छेद करवाकर लाल धागे में डाल लें और गले में पहन लें।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned