इस दिन से शुरु हो रही नवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त और किस तिथि पर किस देवी की होगी आराधना

इस दिन से शुरु हो रही नवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त और किस तिथि पर किस देवी की होगी आराधना

Tanvi Sharma | Updated: 15 Sep 2019, 04:13:51 PM (IST) त्यौहार

Shardiya Navratri 2019: जानें घट स्थापना शुभ मुहूर्त और किस तिथि पर किस देवी की होगी आराधना

अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो जाती है। इस बार शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर 2019 से शुरु हो रही है। नवरात्रि के नौं दिनों देवी दुर्गा के नौं रुपों की आराधना की जाती है। इन दिनों माता की भक्ति में सभी भक्त लीन रहते हैं और माता की आराधना करते हैं। देवी मां के निमित्त व्रत उपवास भी किये जाते हैं। सभी अपने कुलदेवी की पूजा कर उन्हें प्रसन्न करते हैं।

 

shardiya navratri 2019

शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर 2019 से शुरु हो रही है और 8 अक्टूबर के दिन दर्गा विसर्जन होगा। हिंदू धर्म में शारदीय नवरात्रि का विशेष महत्व होता है। नवरात्रि के 9 दिनों में देवी मां के अलग अलग रुपों को पूजा जाता है। नवरात्रि के प्रतिपदा से नौं दिनों तक देवी के इन स्वरुपों को पूजा जाता है। मां शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्रि मां के नौ अलग-अलग रुप हैं।

नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना कर देवी पूजा की जाती है। कई जगहों पर दुर्गा मूर्ति की स्थापना और पंडाल सजाए जाते हैं। आइए जानते हैं शारदीय नवरात्रि तिथियां और घट स्थापना मुहूर्त...

पढ़े ये खबर- माता सीता ने क्यों दिया था फल्गु नदी को श्राप? जानें इसका असल कारण

shardiya navratri 2019

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

नवरात्रि के दिन घट/ कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 6.16 बजे से 7.40 बजे सुबह रहेगा।

दोपहर में 11: 48 बजे से 12.35 के बीच अभिजीत मुहूर्त है इस मुहूर्त में कलश स्थापना बहुत शुभ रहेगी।

अश्विन की प्रतिपदा तिथि 28 सितंबर को रात 11.56 से ही शुरू हो रही है और यह अगले दिन यानी 29 सितंबर को रात 8.14 बजे खत्म होगी।

नवरात्रि में दुर्गा पूजा में किया जाता है 10 जगहों की मिट्टी का प्रयोग

10 जगहों मिट्टी प्रयोग करने का पौराणिक महत्व बताया गया है। देवीभाग्वत् पुराण के अनुसार सभी देवों और प्रकृति के अंश से मां दुर्गा का तेज प्रकट हुआ था। इसलिए देवी दूर्गा की मूर्ति के निर्माण में दस जगहों की मिट्टी का प्रयोग करने की परंपरा चली आ रही है।

पुराणों के अनुसार, अनुष्ठानों के लिए दस मृतिका की आवश्यकता होती है। दस मृतिका, दस जगहों से लाई गई मिट्टी के मिश्रण को कहा जाता है। इसे प्रतिमा निर्माण के लिए प्रयोग किए जाने वाली मिट्टी में मिलाकर मूर्ति निर्मित की जाती है।

पढ़े ये खबर- बुध का राशि परिवर्तन, बदलने जा रही इन राशियों की किस्मत, होगा धनलाभ

shardiya navratri 2019

Navratri 2019: किसी तिथि पर किस देवी की होगी पूजा-आराधना

29 सितंबर 2019- नवरात्रि का पहला दिन
मां शैलपुत्री की पूजा व घट स्थापना

30 सितंबर 2019- नवरात्रि का दूसरा दिन
मां ब्रह्मचारिणी पूजा

1 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का तीसरा दिन
मां चंद्रघंटा पूजा

2 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का चौथा दिन
मां कुष्मांडा पूजा

3 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का पांचवां दिन
मां स्कंदमाता पूजा

4 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का छठवां दिन
मां कात्यायनी पूजा

5 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का सातवां दिन
मां कालरात्रि पूजा

6 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का आठवां दिन- दुर्गा अष्टमी
माता महागौरी पूजा

7 अक्टूबर 2019- नवरात्रि का नौवां दिन महानवमी
नवरात्रि पारण

8 अक्टूबर 2019- दुर्गा विसर्जन, विजयादशमी

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned