इस बार नवरात्री होगी विशेष,हाथी पर सवार होकर आने वाली हैं मां दुर्गा, ऐसे करें प्रसन्न

इस बार नवरात्री होगी विशेष,हाथी पर सवार होकर आने वाली हैं मां दुर्गा, ऐसे करें प्रसन्न

Tanvi Sharma

September, 1911:47 AM

शारदीय नवरात्रि ( Shardiya Navratri 2019 ) 29 सितंबर 2019 से शुरु हो रही है। नवरात्रि में देवी पूजा की जाती है। देवी मां की नौ दिनों तक नौ रूपों की पूजा की जाती है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत, उपवास और पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्रि ( Navratri 2019 ) में सिद्धियां प्राप्त करने के लिए विशेष पूजा अर्चना भी कि जाती है। इसके अलावा घरों में भी देवी मां की पूजा की जाती है। पंडित रमाकांत मिश्रा के अनुसार इस बार मां दुर्गा ( maa durga ) का विशेष आगमन होगा। इसलिए इसका विशेष महत्व माना जाएगा।

 

shardiya navratri 2019

इस बार मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आएंगी और नौ दिनों बाद घोड़े पर बैठकर प्रस्थान करेंगी। यूं तो हम सभी जानते हैं कि मां दुर्गा की सवारी शेर है, लेकिन नवरात्रि में देवी मां का वाहन बदलता रहता है। इस बार देवी मां का आगमन और गमन दोनों ही अलग-अलग सवारी पर होगा। इसके अनुसार नवरात्रि के प्रथम दिन यदि रविवार या सोमवार हो तो मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आती हैं। इस बार नवरात्रि के प्रथम दिन रविवार है इसलिए माता रानी हाथी पर सवार होकर आएंगी।

 

shardiya navratri 2019

इस बार शारदीय नवरात्रि में बन रहे हैं विशेष योग

पंडित जी ने बताया कि इस बार शारदीय नवरात्रि में कई विशेष योग बन रहे हैं, जिससे इस बार दुर्गा पूजा का महत्व ओर भी बढ़ गया है। आइए जानते हैं किस दिन नवरात्रि का कौन सा योग बन रहा है।

30 सितंबर को अमृत सिद्धि योग रहेगा।
1 अक्टूबर को रवि योग
2 अक्टूबर को अमृत, सिद्धि
3 अक्टूबर को सर्वार्थ सिद्धि
4 अक्टूबर को रवि योग
5 अक्टूबर को रवि योग
6 अक्टूबर को सर्वसिद्धि योग रहेगा।

 

shardiya navratri 2019

नवरात्रि का महत्व

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार सालभर में चार बार नवरात्रि आती है। चैत्र और शारदीय के अलावा दो गुप्त नवरात्रि भी आती है। नवरात्रि के नौ दिन के में मां दुर्गा के नौं स्वरूपों की पूजा की जाती है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए लिए पूजा-अर्चना सहित उपाय किये जाते हैं। शारदीय नवरात्रि में जातक आध्यात्मिक और मानसिक शक्ति के संचय के लिए अनेक प्रकार के व्रत, संयम, नियम, यज्ञ, भजन, पूजन, योग-साधना आदि करते हैं।

सिद्धि और साधना की दृष्टि से देखा जाए तो शारदीय नवरात्रि का खास महत्व है। इस दिनों माता के नौ स्वरूप, शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धदात्री की पूजा की जाती है। पहले दिन घटस्थापना होती है और मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned