scripttoday is makar sankranti 2022 with punya kaal on Saturday | मकर संक्रांति आज- सूर्य ने शुक्रवार को किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल शनिवार को | Patrika News

मकर संक्रांति आज- सूर्य ने शुक्रवार को किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल शनिवार को

- शुक्रवार से शुरू हो गया संक्रांति का उल्लास, पूजन-अनुष्ठान शुरू

- होगी सूर्यदेव की आराधना आज,तीर्थों में होगा स्नानदान

भोपाल

Published: January 15, 2022 11:38:05 am

सूर्यदेव की आराधना, स्नानदान और शुभ कार्यों के प्रारंभ का शंखनाद लेकर आ रहा खुशियों का पर्व मकर संक्रांति भले ही शनिवार को मनाया जाएगा, लेकिन पर्व का उत्साह और उल्लास शुक्रवार से ही प्रारंभ हो गया। ज्योतिषियों के अनुसार मकर संक्रांति शनिवार सुबह से विशेष फलदायी होगी।
makar-sakranti_2022
makar-sakranti_2022
सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 जनवरी को रात्रि आठ बजे के बाद हो गया है। ज्योतिषी, पंडितों के अनुसार शनिवार को सूर्योदय से लेकर 12 बजकर 41 मिनट तक विशेष पुण्यकाल रहेगा। मकर संक्रांति पर श्रद्धालु उत्तरायण सूर्य को अघ्र्य देकर आराधना करेंगे। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश के साथ ही मकर संक्रांति का आगमन माना जाता है।

पं. विष्णु राजौरिया के अनुसार सूर्य का मकर राशि मेें प्रवेश 14 जनवरी की रात्रि 8 बजकर 41 मिनट पर होगा। इसलिए इसका विशेष पुण्यकाल 15 जनवरी को सूर्योदय से लेकर 12 बजकर 41 मिनट तक रहेगा। पं. प्रहलाद पंड्या का कहना है कि सूर्य का मकर राशि में प्रवेश 14 की रात्रि में हुआ है, इसलिए इसका विशेष पुण्यकाल 15 को सूर्योदय से लेकर रहेगा।

भोपाल शहर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु तीर्थ स्थलों पर पवित्र स्नान करने पहुंचेंगे। मंदिरों और घरों में भी विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। भगवान को तिल गुड़ के व्यंजन, खिचड़ी का भोग लगाया जाएगा। शहर के गुफा मंदिर, बड़वाले महादेव मंदिर, बांके बिहारी मंदिर सहित अन्य मंदिरों में मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाया जाएगा।

Must Read- हनुमानजी की आराधना दूर करती है ये बड़े दोष

Hanuman ji

लक्ष्मीनारायण बिड़ला मंदिर मकर संक्रांति पर्व के चलते 15 जनवरी को दिन भर खुला रहेगा। मंदिर के प्रबंधक केके पांडेय ने बताया कि संक्रांति पर्व पर मंदिर के पट सुबह 6 बजे से रात्रि 8:30 बजे तक खुले रहेंगे। संक्रांति पर मंदिर में विशेष पूजा अर्चना होगी और भगवान को तिल के पकवान अर्पित किए जाएंगे। अगर 14 जनवरी को मंदिर में दर्शनार्थी ज्यादा आते हैं, तो 14 को भी मंदिर के पट दिन भर खुले रखे जाएंगे।

किस राशि के लिए कैसी होगी संक्रांति और क्या करें
: मेष- धन हानि, सावधानी रखें
: वृषभ- मांगलिक कार्य में व्यतता रहेगी
: मिथुन- कार्य सिद्धि से आत्म संतोष
: कर्क - आर्थिक लाभ के कार्यो में सफलता
: सिंह- विवाद से बचे
: कन्या- सांस्कृतिक, साहित्य में कार्य में अभिरूचि
: तुला- यश और सम्मान की प्राप्ति
: वृश्चिक- राजकीय क्षेत्र में प्रतिष्ठा बढ़ेगी
: धनु- अज्ञात भय रहेगा संयम रखें
: मकर- धार्मिक कार्यों को सम्पन्न करेंगे
: कुंभ- रुके हुए कार्य सम्पन्न होंगे
: मीन- कोर्ट कचहरी और अन्य क्षेत्र में विजय प्राप्तहोगी

इस दिन तिल, गुड़, खिचड़ी और कंबल का दान करना विशेष फलदायी माना गया है।
- पं. विष्णु राजौरिया

Must Read- 2022 Predictions : देश दुनिया में बढ़ेगा तनाव, साथ ही आमिक्रॉन, डेल्टा की स्थिति व भारत का भविष्य

corona Year 2022 predictionदादाजी धाम मंदिर में आज मनेगी संक्रांति
राजधानी के पटेल नगर स्थित दादाजी धाम मंदिर में शनिवार को मकर सक्रांति का पर्व छोटे रूप में मनाया जाएगा। मंदिर में शिवजी का रूदाअभिषेक पूजन, हवन, आरती की जाएगी। इस मौके पर ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं ट्रस्टी, भक्त सीमित संख्या में शामिल होंगे। समिति ने मंदिर में प्रवेश के लिए सभी को मास्क लगाना अनिवार्य किया है। बिना मास्क के मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
Must Read- Dhuniwale Dadaji : श्रद्धालुओं की आस्था का मुख्य केंद्र,जहां 90 साल से जल रही है धूनि

पतंगों से सजाया गया करुणाधाम

मकर संक्रांति पर्व पर करुणाधाम आश्रम में माता महालक्ष्मी मंदिर सहित अन्य मंदिरों की विशेष सजावट की गई। पूरे मंदिर प्रांगण को भी पतंगों और पंखों से सजाया गया है। आने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिए मास्क की अनिवार्यता है। सभी के लिए यहां सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई है। उल्लेखनीय है कि मकर संक्रांति पर हर वर्ष हजारों की संख्या में दर्शनार्थी आते हैं।
धार्मिक और प्राकृतिक महत्व का पर्व
सूर्य का मकर राशि में प्रवेश करना ही मकर संक्रांति कहलाता है। इस दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाता है। इस दिन स्नान, दान, तप, जप और अनुष्ठान का अत्यधिक महत्व है। इसके साथ ही इस दिन तिल का उबटन लगाकर स्नान और तिल गुड़ के बने पकवान खाने का भी विशेष महत्व है। इस दिन तिल और गुड़ का सेवन इसलिए किया जाता है कि तिल में कार्बोहाइड्रेट,कैल्शियम तथा फॉस्फोरस पाया जाता है। इसमें विटामिन बी और सी भी काफी मात्रा में होता है।
मौसम का भी धीरे-धीरे परिवर्तन शुरू होता है, लिहाजा इस समय अपाच्य की शिकायत अधिक रहती है, और तिल गुड़ यह पाचक, पौष्टिक, स्वादिष्ट और स्वास्थ्य रक्षक है। गुड़ जीवन शक्ति बढ़ाता है। शारीरिक श्रम के बाद गुड़ खाने से थकावट दूर होती है और शक्ति मिलती है। गुड़ खाने से ह्दय भी मजबूत बनता है और कोलेस्ट्रॉल भी घटता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की पहली लिस्ट, 34 उम्मीदवारों को दिया टिकटराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलादिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारMizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताBJP की दूसरी लिस्ट जारी: 85 प्रत्याशियों में 15 महिलाएं, अदिति सिंह रायबरेली, रामवीर उपाध्याय को सादाबाद से टिकट, IPS असीम को मिला कन्नौजकोरोना की रफ्तार से ऑफलाइन हो सकती है 12वीं-10वीं की बोर्ड परीक्षा! CGBSE ने की ये तैयारीBHU के रजत जयंती से जुड़ी गांधी की स्मृतियों को NSUI ने किया याद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.