बैंक हड़ताल से ग्राहक परेशान, 20,000 करोड़ रुपए के चेक फंसे

बैंक हड़ताल से ग्राहक परेशान, 20,000 करोड़ रुपए के चेक फंसे

Dimple Alawadhi | Publish: Jan, 09 2019 02:19:03 PM (IST) फाइनेंस

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मचारियों की हड़ताल का आज दूसरा दिन है। देशव्यापी हड़ताल के पहले ही दिन ग्राहकों को कैश समेत कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक कर्मचारियों की हड़ताल का आज दूसरा दिन है। देशव्यापी हड़ताल के पहले ही दिन ग्राहकों को कैश समेत कई दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसका अनुमान आप इस बात से लगा सकते हैं कि बैंक यूनियनों द्वारा बुलाई गई हड़ताल से देश भर में 20 हजार करोड़ रुपए से अधिक के चेक क्लियरिंग में अटक गए हैं। इसके अलावा नगद ट्रांजेक्शन, फंड ट्रांसफर और विदेशी मुद्रा विनिमियन पर भी हड़ताल का असर देखने को मिल रहा है।


हड़ताल में शामिल हैं ये संगठन

वाम दलों द्वारा समर्थित इस हड़ताल में ऑल इंडिया बैंक कर्मचारी संगठन और बैंक कर्मचारी फेडरेशन ऑफ इंडिया से जुड़े सदस्य भाग ले रहे हैं। इन संगठनों में INTUC, AITUC , HMS, CITU , AIUTUC, AICCU, UTUC, TUCC, LPF और SEWA शामिल हैं। हालांकि हड़ताल में भारतीय स्टेट बैंक और निजी बैंक शामिल नहीं थे। बैंक कर्मचारी सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन बढ़ोत्तरी समेत कई मांगों को लेकर अपना विरोध कर रहे हैं।


26 दिसंबर को भी हुई थी देशव्यापी हड़ताल

केंद्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में 10 केंद्रीय संगठनों ने हड़ताल के लिए आह्वाहन किया था। एक ही दिन में 20 हजार करोड़ रुपए से अधिक के चेक क्लियरिंग में अटक गए हैं। अब देखना ये होगा कि आज यानी 9 जनवरी को ग्राहकों के कितने चेक क्लियरिंग में अटकते हैं और इसका क्या असर पड़ता है। इससे पहले 26 दिसंबर को भी वेतन बढ़ोतरी की मांगों को लेकर देशव्यापी हड़ताल घोषित की गई थी।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned