करदाताओं को अब 24 घंटे में मिलेगा टैक्स रिफंड, करना होगा ये काम

करदाताओं को अब 24 घंटे में मिलेगा टैक्स रिफंड, करना होगा ये काम

Manish Ranjan | Publish: Feb, 05 2019 05:55:35 PM (IST) | Updated: Feb, 05 2019 05:55:36 PM (IST) फाइनेंस

करदाताओं को 24 घंटे के भीतर रिफंड देने के लिए राजस्व विभाग दो साल के भीतर एक तंत्र बनाएगा, जिसके जरिए लोगों को 24 घंटे टैक्स रिफंड मिलेगा।

नई दिल्ली। करदाताओं को 24 घंटे के भीतर रिफंड देने के लिए राजस्व विभाग दो साल के भीतर एक तंत्र बनाएगा। तंत्र यह सुनिश्चित करेगा कि सभी रिटर्नों की जांच-पड़ताल 24 घंटे के भीतर हो जाए और साथ ही साथ रिफंड भी जारी हो जाए।


अधिकारी ने दी जानकारी

आपको बता दें कि एक शीर्ष अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि सरकार ने पिछले महीने केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के सूचना प्रौद्योगिकी ढांचे को उन्नत बनाने के लिए 4,200 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। इससे रिटर्न, रिफंड, कर अधिकारी एवं करदाताओं का आमना-सामना नहीं होने और सत्यापन प्रक्रिया में तेजी लाने में मदद मिलेगी।


उन्नत बन रही रिफंड प्रणाली

राजस्व सचिव अजय भूषण पाण्डे ने कहा कि मौजूदा समय में रिफंड का काम स्वचालित तरीके से ऑनलाइन होता है। इस वर्ष में 1.50 लाख करोड़ रुपए का रिफंड सीधे बैंक खातों में भेजा गया है। अब रिफंड प्रणाली को ज्यादा उन्नत बनाया जा रहा है, ताकि 24 घंटे के भीतर लोगों को रिफंड मिल सके।


जल्द होगा लागू

इस प्रक्रिया में लगने वाले समय के बारे में पूछने पर राजस्व सचिव ने कहा कि हम इसे जल्द से जल्द लागू करने की कोशिश करेंगे। इसमें लगभग दो साल तक का समय लगेगा। इस दौरान कर अधिकारी एवं करदाताओं के आमने-सामने नहीं आने (चेहरा विहीन आकलन) की प्रक्रिया को भी पूरा किया जाएगा।


आयकर विभाग कर रहा काम

वित्त मंत्री ने अंतरिम बजट 2019-20 पेश करने के दौरान कहा था कि आयकर विभाग ऑनलाइन काम कर रहा है और रिफंड, रिटर्न, आकलन और लोगों की शिकायतें ऑनलाइन दूर की जा रही हैं। साथ ही गोयल ने कहा कि पिछले साल कुल आयकर रिटर्न में 99.54 फीसदी रिटर्न को स्वीकृति दी गई थी।


परियोजना को मिली मंजूरी

इसके साथ ही हमारी सरकार ने आयकर विभाग को और अधिक लोगों के अनूकूल बनाने के लिए प्रौद्योगिकी आधारित परियोजना को मंजूरी दी है। सभी रिटर्नों की जांच-पड़ताल 24 घंटे में होगी और साथ ही साथ रिफंड भी जारी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगले दो साल में रिटर्न के सत्यापन और आकलन का लगभग पूरा काम इलेक्ट्रॉनिक रूप से होने लगेगा।

(ये कॉपी भाषा से ली गई है।)

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned