रिटेल निवेशकों के लिए खुला भारत-22 ईटीएफ, सरकारी कंपनियों में निवेश से पाएं शानदार रिटर्न

रिटेल निवेशकों के लिए खुला भारत-22 ईटीएफ, सरकारी कंपनियों में निवेश से पाएं शानदार रिटर्न

manish ranjan | Publish: Nov, 15 2017 02:42:59 PM (IST) फाइनेंस

भारत-22 ईटीएफ में सीपीएसई, पीएसयू बैंक और एसयूयूटीआई की कंपनियां शामिल है। भारत-22 ईटीएफ में एनर्जी, फाइनेंस और एफएमसीजी सहित छह सेक्टर को शामिल किया

नई दिल्ली। सरकारी कंपनियों में निवेश का एक बार फिर सुनहरा मौका है। सरकार ने तीसरी बार पीएसयू ईटीएफ लॉन्च किया है। इसका नाम रखा गया है भारत-22 जिसमें 22 दिग्गज कंपनियों में निवेश का मौका है। भारत-22 ईटीएफ में सीपीएसई, पीएसयू बैंक और एसयूयूटीआई की कंपनियां शामिल है। भारत-22 ईटीएफ में एनर्जी, फाइनेंस और एफएमसीजी सहित छह सेक्टर को शामिल किया गया है। रिटेल निवेशकों के लिए यह 15 से 17 नवंबर तक के लिए खुलेगा। सभी कैटेगरी के लिए इसमें 3 प्रतिशत का डिस्?काउंट मिलेगा।जानकारों का मानना है कि निवेशक भारत-22 ईटीएफ में निवेश कर शानदार रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। आइये जानते हैं आखिर क्यों है फायदेमंद भारत-22 ईटीएफ में निवेश करना।


निवेश करना है आसान

इसमें निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट होना जरुरी है। ईटीएफ के लिए शानदार 22 कंपनियां चुनी गई हैं। सरकार के साथ चर्चा के बाद ये शेयर चुने गए हैं। एक्सपर्ट के अनुसार भारत 22 ईटीएफ में 5 साल के लिए निवेश से डबल डिजिट ग्रोथ मिल सकती है। सभी निवेशकों को इश्यू में 3 प्रतिशत का डिस्काउंट रखा गया है। इसमें प्राइवेट कंपिनयों के 39 प्रतिशत शेयर शामिल हैं। जबकि सरकारी कंपनियों के 61 प्रतिशत शेयर शामिल हैं।


पेंशन फंड की मिलेगी प्राथमिकता

आपको बता दें कि भारत 22 ईटीएफ में रिटेल निवेशकों को प्राथमिकता के साथ ही पेंशन फंड भी मिलेगा। फाइनेंस, एनर्जी और एफएमसीजी सेक्टर भी ईटीएफ में शामिल हैं। इसमें निवेशक को किसी एक कंपनी का रिस्क नहीं है। इसमें 6 अहम सेक्टर कर इंडेक्स बनाया गया है। भारत के 6 अहम सेक्?टर इस ईटीएफ में शामिल हैं। ईटीएफ में रिस्क काफी कम है। ईटीएफ रिटेल और लंबी अवधि के निवेशक के लिए बेहतर है जो बेतरीन 22 कंपनियों में निवेश का अच्छा मौका दे रहा है।


शानदार रिटर्न की दावा

भारत 22 ईटीएफ बेहद ही नया है, परंतु इसके पिछले रिटर्न बताते हैं कि इसने न सिर्फ बीएसई सेंसेक्स में उम्मीद से अच्छा प्रदर्शन किया है, परंतु कई लॉर्ज फंडों में भी सबसे बेहतरीन रिटर्न दिया है। मार्च 2006 के (10 सालों में ) बाद भारत 22 सूचकांक ने 12.9 फीसदी का रिटर्न दिया जबकि सेंसेक्स ने 9.2 फीसदी का रिटर्न दिया। इस अवधि में अगर आपने एक लाख रुपए का निवेश किया था तो भारत 22 से यह अब तक 3.4 लाख रुपए हो गया, जबकि यही राशि बीएसई सूचकांक में 2.4 लाख रुपए होती। भारत 22 सूचकांक ने लाभांश भी काफी अच्छा खासा दिया और यह वित्त वर्ष 2016-17 में 2 फीसदी तक की ऊंचाई पर पहुंच गया। जबकि बीएसई सेंसेक्स ने इसी दौरान 1.3 फीसदी का लाभांश ऑफर किया। ऐसे में बाजार के जानकारों का मानना है कि इस बार भी यह निवेशकों को अच्छा रिटर्न देगा।


खास बातें

यह एनएफओ, निवेश एवं सार्वजनिक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम), वित्त मंत्रालय द्वारा घोषित विनिवेश कार्यक्रम का हिस्सा है एंकर और गैर-एंकर एनएफओ अवधि - एनएफओ 14 नवंबर, 2017 से नवंबर 17, 2017 के बीच खुला रहेगा, जिसमें एंकर एनएफओ अवधि 14 नवंबर, 2017 की होगी 8,000 करोड़ रुपये की प्रारंभिक राशि के साथ-साथ अतिरिक्त राशि एकत्रित करने का लक्ष्य है, जो भारत सरकार द्वारा अनुमोदन के अधीन है। प्रत्येक श्रेणी के निवेशकों के लिए आवंटन का प्रतिशत निम्नानुसार है।

एंकर निवेशक - 25%
खुदरा व्यक्तिगत निवेशक - 25%
सेवानिवृत्ति निधि - 25%
क्यूआईबी और एनआईआई - 25%
सभी श्रेणियों के निदेशकों को बुनियादी घटकों के संदर्भ बाज़ार मूल्य पर 3% की छूट उपलब्ध कराई जाएगी

Ad Block is Banned