FICCI ने मोदी सरकार के बजट के लिए पेश किया नया एजेंडा, देश की अर्थव्यवस्था को मिलेगी रफ्तार

FICCI ने मोदी सरकार के बजट के लिए पेश किया नया एजेंडा, देश की अर्थव्यवस्था को मिलेगी रफ्तार

Shivani Sharma | Publish: Jun, 15 2019 01:17:06 PM (IST) | Updated: Jun, 15 2019 02:27:28 PM (IST) फाइनेंस

  • मोदी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल का पहला बजट 5 जुलाई को पेश करेगी
  • यह बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा पेश किया जाएगा
  • मोदी सरकार के इस बजट के लिए FICCI ने सिक्स-पॉइंट एजेंडे को फॉलो करने की सलाह दी है

नई दिल्ली। मोदी सरकार ( Modi govt ) अपने दूसरे कार्यकाल का पहला बजट ( budget ) 5 जुलाई को पेश करेगी। यह बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitaraman ) के द्वारा पेश किया जाएगा। सरकार के इस बजट से देश की आम जनता को काफी उम्मीदें हैं। जनता को लगता है मोदी सरकार के इस बजट देश की इकोनॉमी ( economy ) को तेजी मिलेगी और रोजगार के मोर्चे पर भी सरकार बड़े ऐलान कर सकती है।


FICCI ने दी सिक्स-पॉइंट एजेंडे को फॉलो करने की सलाह

देश के व्यापारिक संगठनों के संघ फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स एंड इंडस्ट्री ( FICCI ) ने सलाह देते हुए कहा कि मोदी सरकार को अपने आगामी बजट में सिक्स-पॉइंट एजेंडे पर फोकस करना चाहिए। इससे देश की जनता को भी काफी राहत मिलेगी। फिक्की ने अपने सिक्स-पॉइंट एजेंडे में रोजगार, पेंडिंग बिल्स के पास करना, वस्तु एवं सेवा कर ( GST ) के आसान बनाना, खेती से जुड़ी समस्याओं का निराकरण करना, ब्याज दरों में कमी करना और नीतियों की घोषणाओं को रखा है।


ये भी पढ़ें: नरेश गोयल को झटका, IT डिपार्टमेंट ने दिया 650 करोड़ टैक्स चोरी का समन


देश की इकोनॉमी में मिलेगी रफ्तार

फिक्की के सिक्स पॉइंट्स एजेंडे देश की इकोनॉमी को रफ्तार मिलेगी और जीडीपी में भी ग्रोथ होगी। इसके अलावा देश की आम जनता को रोजगार के मोर्चे पर भी राहत मिलेगी। इसके अलावा फिक्की के सिक्स-पॉइंट एजेंडे में ई-फॉर्मेसी, रिटेल, इंडस्ट्री और ई-कॉमर्स से जुड़ी पॉलिसी भी शामिल हैं।


संदीप सोमानी ने मीडिया को दी जानकारी

फिक्की के प्रेसिडेंट संदीप सोमानी ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि मोदी सरकार को लोकसभा चुनाव में बहुमत मिला है। इस बहुमत को देखकर ही समझ आता है कि देश की जनता को आगामी बजट से काफी उम्मीदें हैं। इसके साथ ही उद्योग जगत के लोगों को भी काफी उम्मीद है कि केंद्र सरकार वर्तमान चुनौतियों से निपटने के लिए कड़े सुधारवादी कदम उठाएगी। उनका मानना है कि केंद्र सरकार अगर कड़े सुधारवादी कदम उठाती है तो इससे इकोनॉमी की रफ्तार तेज होगी।


ये भी पढ़ें: RBI ने बैंकों को जारी किए निर्देश, कहा - नए नियमों का पालन कर बढ़ाई जाए ATM की सुरक्षा


सरकार को घटाना चाहिए रेपो रेट

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को निवेश बढ़ाने पर भी ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही कारोबार की लागत को कम करने के लिए रेपो रेट ( repo rate ) में भी कटौती की जानी चाहिए। रेपो रेट कम होने से आम जनता को काफी राहत मिलेगी।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned