दिव्यांग शुरू कर सकेंगे अब अपना खुद का बिजनेस, सरकार देगी 10 लाख का लोन

Highlights
- केन्द्र सरकार (Central Government) द्वारा कई ऐसी सरकारी योजना (Government Yojna) शुरू हुई है जिसमे विकलांगों/दिव्यंगों को कारोबार करने के लिए बिजनेस लोन मुहैया कराया जाता है
- एक ऐसी ही योजना नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन (National Handicapped Finance and Development Corporation) द्वारा चलाई जा रही है
- दिव्यांग/विकलांग लोगों को बिजनेस (Loan Facility for Handicapped) शुरू करने के लिए 5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन (Loan for Handicap People) दिया जाता है

By: Ruchi Sharma

Published: 14 Jul 2020, 03:42 PM IST


नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) ने हर तबके के लिए कई योजनाएं चलाई है। एेसे ही दिव्यांग/विकलांग के लिए भी कई योजनाएं (Disability Schemes) हैं। जिससे दिव्यांग/विकलांग भी सम्मानित जीवन जी सकते हैं। केन्द्र सरकार (Central Government) द्वारा कई ऐसी सरकारी योजना (Government Yojna) शुरू हुई है जिसमे विकलांगों/दिव्यंगों को कारोबार करने के लिए बिजनेस लोन मुहैया कराया जाता है। एक ऐसी ही योजना नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन (National Handicapped Finance and Development Corporation) द्वारा चलाई जा रही है। नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन (Divyangjan Swavalamban Yojna) द्वारा दिव्यांग/विकलांग लोगों को बिजनेस (Loan Facility for Handicapped) शुरू करने के लिए 5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन (Loan for Handicap People) दिया जाता है। यह योजना दिव्यांगता के लिए वरदान बन कर सामने आई है।

नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन (NHFDC) द्वारा स्वीकृत बिजनेस लोन का भुगतान लिस्टेड बैंक और एनबीएफसी (Loan Facility for Handicapped) से होता है। सरल भाषा में कहें तो पहले NHFDC द्वारा बिजनेस लोन स्वीकृत किया जाता है। फिर NHFDC के यहां लिस्टेड बैंक और एनबीएफसी से बिजनेस लोन (Loan Facility for Handicapped) मिलता है।

इस योजना की खास बातें..

- यह एक केन्द्र सरकार का संगठन है।
- इस संगठन का मुख्य कार्य दिव्यांग/विकलांग लोगों की आर्थिक से रुप से मदद करके उन्हें सशक्त करना है।
- इसे हम इस तरह भी कह सकते हैं कि भारत सरकार द्वारा दिव्यांग/विकलांग लोगों की जिंदगी आसान करने के लिए नेशनल हैंडीकैप्ड फाइनेंस एंड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन‘ (NHFDC) का गठन किया गया है।


उद्देश्य

- विकलांगजनों के बौद्धिक और शारीरिक क्षमताओ के दृष्टिगत उनके कौशल विकास के लिए सरकारी/गैर सरकारी संस्थानो के माध्यम से प्रशिक्षण आयोजित करके उन्हे स्वयं रोजगार के अवसर प्रदान करना।
- योजना दृष्टिबाधित, श्रवणबाधित, अस्थिबाधित, कुष्ठरोग, मानसिक बीमारी (पागलपन) वाले दिव्यांगों के जीवन एवं स्वास्थ्य को बेहतर बनाने हेतु कम खर्च में स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से शुरू की गई एक प्रतिष्ठित योजना है।

इस तरह के बिजनेस के लिए मिलता है लोन


- कमर्शियल वाहन खरीदने के लिए
- सर्विस/ट्रेडिंग का बिजनेस करने के लिए लोन
- कृषि गतिविधियाँ चलाने के लिए लोन
- छोटी औद्योगिक इकाई स्थापित करने के लिए लोन
- मानसिक रुप से अविकसित व्यक्तियों के लिए लोन

जानिए, कितना मिलता है लोन

- नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन से कमर्शियल वाहन खरीदने के लिए 10 लाख रुपये तक का लोन मिलता है। लोन की राशि का उपयोग ऑटोरिक्शा सहित सभी वाहन की खरीद करने के लिए किया जा सकता है।
- सर्विस/ट्रेडिंग क्रियाकलाप के लिए 3 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन।
- सर्विस सेक्टर का बिजनेस करने के लिए लिए 5 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन से मिलता है।

इन बैंकों से मिलता है लोन


- नेशनल हैन्डीकैप्ड फाइनैंस एंड डेवलपमेंट कोर्पोरेशन
- पंजाब एण्ड सिंध बैंक
- ऑरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC)

ये हैं शर्तें


- आवेदन कर्ता भारतीय नागरिक हो।
- 18 वर्ष से अधिक उम्र होना चाहिए।
- भारत सरकार के मानक अनुसार न्यूनतम 40% दिव्यांगता/विकलांगता होना चाहिए।
- कम से कम 10वीं क्लास पास होना चाहिए।
- जिस बिजनेस के लिए लोन की मांग की जा रही हो, वह बिजनेस CGS के अप्रूव्ड होना चाहिए

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned